नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पाकिस्तानी बहन कमर मोहसिन शेख कोरोना संकट के चलते इस बार राखी बांधने नहीं आ सकेंगी, इसलिए उन्होंने अपने भाई के लिए डाक से राखी भेजी हैं। साथ ही अपने भाई और देश के प्रधानमंत्री के अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र की कामना की है। इस साल कोरोना महामारी के चलते शेख प्रधानमंत्री मोदी की कलाई पर राखी बांधने नहीं आ पाएंगी, इसलिए उन्होंने इस पवित्र धागे को डाक के जरिये भेजा है। कमर मोहसिन शेख पिछले 24 सालों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राखी बांधती आ रहीं हैं। मोहसिन कमर पाकिस्तान से हैं, लेकिन शादी के बाद अहमदाबाद में बस गई हैं। शेख ने बताया, हम पिछले 30-35 सालों से एक-दूसरे को जानते हैं। जब मैं पहली बार उनसे दिल्ली में मिली थी, तब उन्हें पता चला कि मैं कराची से हूं और यहां शादी की है। तब उन्होंने बहन कह कर मुझे संबोधित किया था। मेरा कोई भाई नहीं है। इसके दो-तीन साल बाद मैं फिर से दिल्ली आई। संयोग से उस दिन रक्षाबंधन था। तब मैंने मोदी भाई से राखी बंधवाने का आग्रह किया और उन्होंने कलाई आगे कर राखी बंधवा ली। तभी से राखी बांधती आ रही हूं। मैं 25वीं राखी खुद प्रधानमंत्री की कलाई पर बांधना चाहती थी, लेकिन इस बार हालात ऐसे नहीं हैं। राखी के साथ शेख ने प्रधानमंत्री मोदी के लिए एक कवितानुमा पत्र भी भेजा है, जिसमें कोरोना संकट में मोदी के काम के लिए सराहना की है। साथ ही उनके अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र की कामना की है। उन्होंने प्रधानमंत्री के लिए प्रख्यात लेकर पद्मश्री गैरेंद्र पटेल की लिखी किताब 'कमर जहान' भी भेजी है।