गुना में दर्दनाक हादसा:दिल्ली से ओंकारेश्वर घूमने आईं चार महिला दोस्तों की कार गाय को बचाने में अनियंत्रित हुई, पांच बार पलटी खाकर खेत में गिरी, तीन की मौत, एक घायल
 

मध्य प्रदेश के गुना में एक दर्दनाक हादसे में तीन महिलाओं की मौत हो गई, वहीं एक घायल हैं। ये महिला दोस्त ओंकारेश्वर घूमने आई थीं।
दिल्ली से आई थीं चारों घूमने, एक की मौके पर मौत, दो अन्य महिलाओं ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया
कार चला रही महिला ने कहा- चानक ही मवेशी ने तेजी से सड़क क्रॉस किया, इस दौरान यह हादसा हुआ

दिल्ली से चार महिलाएं ओंकारेश्वर घूमने मध्य प्रदेश आई थीं और शनिवार को सुबह वापस लौट रही थीं। कार तेज रफ्तार से चल रही थी, तभी गुना जिले के बीनागंज बायपास पर गाय को बचाने में कार का संतुलन बिगड़ गया और तीन-चार पलटी खाकर फोर लेन हाइवे के बीच में गिरी। जिसमें एक महिला की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं महिलाओं की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस मौके पर पहुंची और घायल महिलाओं को कार से बाहर निकाला।

गुना में दिल्ली जा रही चार महिला दोस्तों की कार हादसे का शिकार हो गई।

चांचौड़ा थाना प्रभारी राकेश गुप्ता ने बताया कि इस घटना में संतोष कुमारी 48 साल निवासी दिल्ली ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं 42 वर्षीय गायत्री देवी पत्नी लाल सिंह निवासी रघुवीर नगर दिल्ली की मौत जिला अस्पताल में हुई। तीसरी महिला पूनम (40) पत्नी ज्ञानचंद भारती निवासी न्यू महावीर नगर को उनकी गंभीर हालत की वजह से ग्वालियर रैफर किया गया। उन्होंने भी शिवपुरी के पास दम तोड़ दिया। थाना प्रभारी ने बताया कि घटना में बाल-बाल बचीं बिंदु शर्मा खुद कार चला रही थीं।

घटनास्थल पर लोगों की भीड़ लग गई और लोग कैमरे से फोटो-वीडियो बनाने लगे।

तेजी से भागकर गाय सामने आ गई, मैने तेजी से ब्रेक लगाया तो पलट गई कार

कार चला रहीं बिंदु शर्मा ने बताया कि हाईवे ओंकारेश्वर से आते हुए हाईवे पर जगह-जगह मवेशी मिल रहे थे। इसलिए हम गाड़ी संभलकर ही चला रहे थे। पर इस बार अचानक ही मवेशी ने तेजी से सड़क क्रॉस की। मैने तेजी से गाड़ी मोड़ी और इसी दौरान ब्रेक भी लगाया। इससे कार पलटती चली गई। यह चार-पांच पलटी खाते हुए डिवाइडर में जा गिरी। मुझे बस इतना ही याद है। कुछ देर बाद वहां लोग पहुंच गए और उन्होंने मुझे और अन्य महिलाओं को बाहर निकाला। बाद में एंबुलेंस भी पहुंच गई। पुलिस बाद में पहुंची।

लोगों ने दुर्घटना के बाद महिलाओं को कार से निकाला और अस्पताल भिजवाया।

गायों को भगाने के लिए हर खेत पर तैनात रहते हैं चौकीदार

उन्होंने यह भी बताया फसल के सीजन के दौरान हाईवे किनारे के हर खेत के सामने पहरेदारी चलती है। रात हो या दिन कोई न कोई डंडा लेकर खड़ा रहता है। उनका बस एक ही काम है कि जैसे ही आवारा मवेशियों का झुंड दिखे तो उसे आगे हांक दो। अगर हम मवेशियों काे हटाते हैं तो कई बार उनसे झगड़ा भी हो जाता है। वे कहते हैं कि हमारे खेत में मवेशी नहीं घुसेंगे। ऐसे में हम करें तो क्या करें?