• 21 मार्च से यूपी में मेट्रो सेवाओं का संचालन रोका गया था, लखनऊ मेट्रो देश का पहले सिस्टम, जहां यूवी तकनीक का इस्तेमाल हो रहा
  • पुरुषों मुकाबले महिलाओं ने ज्यादा दिखाई मेट्रो से सफर करने में दिलचस्पी, बोलीं- अन्य ट्रांसपोर्ट के साधन से सुरक्षित है मेट्रो

कोरोना महामारी के खतरे के बीच 171वें दिन सोमवार को फिर से राजधानी लखनऊ में मेट्रो पटरी पर दौड़ने लगीं। बीते 21 मार्च से मेट्रो का संचालन बंद था। पहले दिन चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट से मुंशी पुलिया के बीच 16 ट्रेनों का संचालन शुरू किया गया है। चार ट्रेनों को रिजर्व रखा गया है। यहां सुबह यात्रियों को टोकन यूवी (अल्ट्रावायलेट तकनीक) से सैनिटाइज कर दिए गए। इसी के साथ लखनऊ मेट्रो देश की पहली सेवा है, जहां इस तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है।

हालांकि, सुबह यात्रियों की संख्या बेहद सीमित रही। सुबह 6 बजे चली पहली मेट्रो ट्रेन बिना यात्रियों के रवाना हुई। लेकिन समय बीतने के साथ यात्रियों की संख्या बढ़ती दिखी। यात्रियों में ज्यादातर महिलाएं थीं। उनका कहना था कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट में मेट्रो ज्यादा सुरक्षित है। यूपी मेट्रो रेल कॉरपोरेशन का दावा है कि पहली ट्रेन में 45 यात्रियों ने सफर किया। जिन्हें मेट्रो में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बैठाया गया। इसके साथ सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग, आरोग्य सेतु और मास्क की जांच के बाद एंट्री दी गई। दैनिक भास्कर के संवाददाता आदित्य तिवारी ने हजरतगंज से मुंशी पुलिया तक का सफर किया और सात स्टेशनों की व्यवस्थाओं का हाल जाना...

घड़ी में सुबह 7:15 बज रहे थे। हजरतगंज मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों के आने और जाने के लिए दो गेट ही खोले गए। स्टेशन के अंदर टोकन और कार्ड के लिए ऑटोमैटिक मशीन चालू थी। उसके पास खड़ी महिला कर्मचारी यात्रियों को कैसे टोकन ले सकते हैं, उसके बारे में बता रही थी। स्टेशन पर पहुंचने पर गार्ड ने थर्मल स्क्रीनिंग कर तापमान मापा। गार्ड ने अपने पास मास्क का बंडल रखा था। पूछा गया तो कहने लगा कि यह मास्क मेट्रो कार्ड खरीदने पर फ्री है। अगर किसी यात्री के पास मास्क नहीं है तो उसे भी दिया जाएगा। एंट्री गेट पर ही बिस्कुट का पैकेट दिया गया। यहां जगह-जगह कोरोना से बचाव के लिए पेंटिंग और रंगोली बनी हुई थी। तभी चारबाग की तरफ से मेट्रो आ गई। अधिकतर डिब्बे खाली थे। दो यात्री स्टेशन पर उतर गए। करीब 25 मिनट के सफर में इक्का-दुक्का लोग ही ट्रेन में उतर और चढ़ रहे थे। आखिरकार मुंशी पुलिया पर ट्रेन खाली हो गई।

रूफही शाहिना प्राइवेट जॉब करती हैं। वे आलमबाग बस स्टैंड से बादशाह नगर तक का सफर कर रही थीं। वे मेट्रो शुरू होने से काफी खुश नजर आईं। कहने लगीं कि मैं तो मेट्रो शुरू होने से बहुत उत्साहित हूं। यहां कोरोना से बचाव के हर इंतजाम हैं। जबकि पब्लिक ट्रांसपोर्ट में कौन संक्रमित है या नहीं, इसका पता ही नहीं चलता।

गोरखपुर के रहने वाले उत्कर्ष त्रिपाठी लखनऊ में रहकर पढ़ाई करते हैं। उन्हें अचानक आज अपने घर जाना पड़ रहा है। इसलिए वे मुंशी पुलिया मेट्रो स्टेशन आलमबाग बस स्टैंड जाने के लिए ट्रेन में सवार हुए थे। मैंने अपना तापमान चेक करवाया। आरोग्य सेतु ऐप की डिटेल चेक हुई। मेट्रो की यात्रा सुरक्षित है।

अर्चना और सुमन राय भी मेट्रो में सवार मिलीं। दोनों कामगार महिला हैं। अर्चना ने कहा कि मुझे अक्सर मीटिंग के सिलसिले में आलमबाग जाना होता है। अभी तक टैक्सी बुक कराकर जाती थी, जो महंगी पड़ती थी। मेरे लिए मेट्रो बेहद आसान है। वहीं, सुमन राय ने कहा कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन चाहकर भी नहीं हो सकता है। मैं तो मेट्रो शुरू होने का इंतजार कर रही थी।