मुंबई । महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना सांसद संजय राउत की हालिया मुलाकात को लेकर सियासी कयासबाजी शुरू हो गई है। महाराष्ट्र भाजपा के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने इस मुलाकात पर कहा कि जब अलग-अलग दलों के दो बड़े नेता मिलते हैं तो चाय-बिस्कुट की नहीं, राजनीति की बात होती है। इस मुलाकात के बाद लोग सत्ता परिवर्तन की चर्चा करने लगे हैं। महाराष्ट्र भाजपा प्रमुख से जब इसको लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि जब अलग-अलग पार्टी के दो बड़े नेता मिलते हैं तो राजनीतिक चर्चा होती है। अगर वे दो घंटे से अधिक समय तक बैठक करते हैं तो जाहिर सी बात है कि वे चाय-बिस्कुट की चर्चा नहीं करेंगे। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि बैठक में किसी तरह का फैसला नहीं हुआ। आपको बता दें कि शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत तथा फडणवीस के बीच शहर के एक होटल में शनिवार को मुलाकात हुई थी। हालांकि पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने बाद में कहा था कि राउत के साथ हुई मुलाकात शिवसेना के मुखपत्र के वास्ते लिए गए एक साक्षात्कार के संबंध में थी। राउत अखबार के कार्यकारी संपादक भी हैं।
वहीं, शिवसेना सांसद संजय राउत ने ने कहा था कि मैं कुछ मुद्दों पर चर्चा करने के लिए देवेंद्र फडणवीस से मिला। वह पूर्व सीएम हैं और इसके अलावा, वह महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता हैं और भाजपा के बिहार प्रभारी हैं। आपको बता दें कि इस मुलाकात के बाद महाराष्ट्र के राजनीतिक गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म हो गया था।
संजय राउत ने इस मुलाकात पर कहा था कि हमारे बीच वैचारिक मतभेद हो सकते हैं लेकिन हम दुश्मन नहीं हैं। सीएम को हमारी बैठक के बारे में पता था। राउत ने मुंबई के एक होटल में फडणवीस से मुलाकात की थी। राउत पिछले साल विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता बंटवारे के फार्मूले को लेकर भाजपा विरोधी रुख के लिए सुर्खियों में थे।