प्रधानमंत्री मोदी द्वारा टोक्यो ओलंपिक के सभी खिलाडिय़ों से अपील करने के बाद अब खेल मंत्री अनुराग ठाकुर टोक्यो ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा के जरिए इस अभियान को शुरू कराने जा रहे हैं। नीरज चार दिसंबर को अहमदाबाद के संस्कारधाम स्कूल का दौरा करेंगे, जहां वे गुजरात के 75 स्कूलों के बच्चों से बातचीत कर अपने आहार और संतुलित आहार के अलावा, खेल, फिटनेस के संबंध में बातचीत कर उन्हें प्रेरित करेंगे।

टोक्यो ओलंपिक में खेलने वाले खिलाडिय़ों और पदक विजेताओं से अपने आवास पर मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी खिलाडिय़ों से अपील की थी कि वे 75 स्कूलों का दौरा कर छात्रों को संतुलित आहार के बारे में बताएं।

पीएम की इस अपील के बाद खेल मंत्री अनुराग ठाकुर टोक्यो ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा के जरिए इस अभियान को शुरू कराने जा रहे हैं। नीरज चार दिसंबर को अहमदाबाद के संस्कारधाम स्कूल का दौरा करेंगे, जहां वे गुजरात के 75 स्कूलों के बच्चों से बातचीत कर अपने आहार और संतुलित आहार के अलावा, खेल, फिटनेस के संबंध में बातचीत कर उन्हें प्रेरित करेंगे।

प्रधानमंत्री ने खिलाडिय़ों से यह अपील इस लिए की थी कि छात्र संतुलित आहार के बार में जा सकें और खिलाडिय़ों से प्रेरणा लेकर कुपोषण से दूर रह सकें। पीएम ने यह भी कहा कि खिलाड़ी अगर छात्रों से मिलेंगे और बात करेंगे तो वे उनसे प्रेरित होंगे। खेल मंत्री अनुराग ठाकुर अब इसी अभियान को शुरू कराने जा रहे हैं। इस अभियान से जल्द अन्य खिलाड़ी भी जुड़ेंगे। नीरज का कहना है कि वह पीएम की अपील पर इस अभियान का हिस्सा बनकर बेहद खुश और उत्साहित हैं। युवाओं को स्वस्थ्य जीवन जीने के लिए प्रेरित करने में खिलाड़ी एक बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

खेल मंत्री और लोकसभा अध्यक्ष तक पहुंचा दृष्टिबाधित एथलीट को रोकने का मामला

दृष्टिबाधित एथलीट शालिनी चौधरी को यूथ एशियाई पैरा गेम्स के लिए वीजा में खामी के चलते एयरपोर्ट पर बहरीन जाने से रोकने का मामला लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के समक्ष पहुंच गया है। मामले को विदेश मंत्रालय के संज्ञान में भी ला दिया गया है। शालिनी और उनकी मां सरोज ने बुधवार को खेल मंत्री से मुलाकात कर उन्हें बहरीन भेजने की गुहार लगाई।

एथलीट मां के साथ खेल मंत्री से मिली

यूथ एशियाई पैरा खेलों के लिए शालिनी और विकास भाठीवाल रविवार को दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे थे, लेकिन वीजा में खामियां होने के चलते उन्हें वापस लौटा दिया गया। पीसीआई ने विकास का तो वीजा लगवाकर उन्हें भेज दिया, लेकिन शालिनी के मामले में कुछ नहीं हुआ। अमर उजाला ने इस मामले को उठाया था। सीकर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने संसद में लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात कर शालिनी का वीजा लगवाने की मांग की। सरोज ने कहा कि उन्होंने खेल मंत्री को सारी बात बता दी है। उनसे गुहार लगाई है कि शालिनी का वीजा लगवाकर उसे बहरीन भेजा जाए, जिससे वह तीन दिसंबर को होने वाली अपनी इवेंट खेल में सके।