नई दिल्ली । राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर गुरुवार को कृतज्ञ राष्ट्र ने बापू का नमन किया। इस अवसर पर दिल्ली में राजघाट स्थित उनकी समाधि पर प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष मनमोहन सिंह, पूर्व उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह समेत विभिन्न दलों के नेताओं और गणमान्य लोगों ने राजघाट पहुंच कर बापू को श्रद्धांजलि अर्पित की। देश के विभिन्न हिस्सों में भी प्रार्थनासभाएं आयोजित कर महात्मा गांधी को याद किया गया। इससे पहले पीएम मोदी ने ट्वीट किया, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें कोटि-कोटि नमन। पूज्य बापू के व्यक्तित्व, विचार और आदर्श हमें सशक्त, सक्षम और समृद्ध न्यू इंडिया के निर्माण के लिए प्रेरित करते रहेंगे। गृहमंत्री अमित शाह ने बापू को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया, 'गांधी जी के विचार आज भी प्रासंगिक हैं। उन्होंने भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को अहिंसा का अविस्मरणीय पाठ पढ़ाया। अमित शाह ने कहा कि गांधी जी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने का काम पीएम मोदी ने किया है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी सुबह राजघाट पहुंचे और राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि अर्पित की। 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे, नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह, और चीफ एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने महात्मा गांधी को राजघाट पर जाकर श्रद्धांजलि दी। भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने भी राजघाट पहुंच कर महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उनका नमन किया।
 
शहीद दिवस के रुप में मनाई जाती है  बापू की पुण्यतिथि
महात्मा गांधी की पुण्यतिथि 30 जनवरी को उनके और अनगिनत अन्य बहादुर भारतीयों के बलिदान के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए शहीद दिवस के रुप में मनाया जाता है। यह उन आदर्शों को याद करने का एक दिन है जब इन बहादुर लोगों ने न्याय, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के लिए अपना बलिदान कर दिया था। इस मौके पर विशेष श्रद्धांजलि सभा का भी आयोजन किया जाता है। महात्मा गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख नेता थे और उन्होंने देश की आजादी में बेहद अहम भूमिका निभाई थी। गांधी जी देश की आजादी के लिए कई बार जेल भी गए थे। आजादी मिलने के बाद 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी। नाथूराम गोडसे ने बापू के साथ खड़ी महिला को हटाया और अपनी सेमी ऑटोमेटिक पिस्टल से एक के बाद एक तीन गोली मारकर उनकी हत्‍या कर दी।