लखनऊ. कानपुर (Kanpur) के विकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे (Vikas Dubey) की तलाश जारी है. वहीं अब विपक्षी पार्टियां भी लगातार सरकार को निशाने पर ले रही हैं. इसी क्रम में योगी सरकार (Yogi Government) के सहयोगी रह चुके पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर (Omprakash Rajbhar) ने सीएम योगी (CM Yogi Adityanath) से इस्तीफे की मांग की है. राजभर ने ट्वीट कर कहा है कि योगी जी को नैतिक आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए और इस मामले में केंद्र सरकार को सीबीआई जांच करानी चाहिए.

कानपुर बीजेपी सरकार की विफलता

राजभर ने अपने ट्वीट में कहा है, " कानपुर आतंकी घटना बीजेपी सरकार की विफलता है, योगी जी को नैतिक के आधार पर अपने पद से त्यागपत्र दे देना चाहिए. और केन्द्र सरकार को सीबीआई जांच करानी चाहिए. आतंकियों को सूचना किसने दी और योगी सरकार की इसमें क्या भूमिका है. योगी जी विकास दुबे को क्यों नहीं पकड़ पाए? विकास दूबे से मिले हुए है."

अपने दूसरे ट्वीट में राजभर ने कहा है, "योगी सरकार अपराधियों की पालनहार बनी है. इसकी पुष्टि आतंकी विकास दुबे अपनी जुबान से खुद ही बयां कर रहा है. जिसमे दो वर्तमान भाजपा विधायक का नाम ले रहा है. बीजेपी इन विधायकों को पार्टी से बर्खास्त करेगी? भाजपाई खामोश क्यों है? भाजपाई अब इस विकास दुबे को आतंकवादी बोलेंगे?"

रामराज्य का पोस्टमार्टम

इससे पहले राजभर ने ट्वीट कर रामराज्य का पोस्टमार्टम लिखा था. उन्होंने लिखा था, "योगी के रामराज्य का पोस्टमार्टम". मजदूर परेशान, युवा हताश, महिलाएं असुरक्षित, किसान त्रस्त, शिक्षक लाचार, लाखों बेरोजगार, पिछड़ों के आरक्षण पर वार, गरीब भुखमरी का शिकार, अस्पताल बदहाल और बढ़ता अपराध.

पिछड़े, दलित, अल्पसंख्यक, गरीब को नहीं मिल रहा इंसाफ़ बेबस है सारा यूपी, काहे की योगी सरकार?

गौरतलब है कि मिशन 2022 की तैयारियों में जुटे सुभासपा नेता ओमप्रकाश राजभर, योगी सरकार से अलग होने के बाद से लगातार बीजेपी सरकार को निशाने पर लिए हुए हैं. कानपुर की घटना के बाद से राजभर कुछ ज्यादा ही आक्रामक नजर आ रहे हैं.