अयोध्या. अयोध्या में श्री राम जन्म भूमि मंदिर का पूजन (Ram Mandir Bhumi Pujan) कार्यक्रम संपन्न होने के बाद श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ रही है. 5 अगस्त को प्रधानमंत्री ने राम जन्म भूमि की आधारशिला रखी तो पूरे देश में राम में वातावरण बन गया. लोगों ने घरों में दीपक जलाए धार्मिक अनुष्ठान किए और मिठाइयां बांटी. लेकिन अब इस सुखद अहसास को संजोने के लिए अयोध्या में लगातार श्रद्धालु उमड़ रहे हैं. श्रद्धालु जानना चाहते हैं कि उनके आराध्य का मंदिर कैसा होगा, किस तरीके बन रहा है. और क्या क्या तैयारियां हैं. इसको देखने के लिए कोरोना काल में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु अयोध्या पहुंच रहे हैं.

5 अगस्त को पीएम मोदी ने रखी थी आधारशिला 

कोई राम धुन पर गाता हुआ आया तो कोई राम के प्रति शीश नवाकर उनके दिव्य और अलौकिक दर्शन के लिए लाइन में लगा है. श्रद्धालु मंदिर निर्माण की तैयारियां और इस दौरान उपजे उल्लास को हमेशा के लिए अपने हृदय में बसा लेना चाहते हैं. हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने बताया कि भारतवासियों के प्रयास से प्रधानमंत्री ने 5 अगस्त को अयोध्या में राम जन्म भूमि की आधारशिला रखी और इसमें कई विशिष्ट जन भी शामिल हुए.

भूमि पूजन के बाद से ही अयोध्या में लगातार भक्तों का मेला शुरू हो गया है. कोरोना काल को देखते हुए या अपील भक्तों और दुकानदारों से की जा रही है कि प्रसाद और माला फूल लेकर श्रद्धालु ना आए वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए सभी को सहयोग करना होगा. पर्यटकों के अयोध्या आगमन से अब अयोध्या फिर से गुलजार होने लगी है.

 छोटे बड़े सभी व्यवसायियों को मिला लाभ

इसका फायदा भी हो रहा है मस्त मंदिर और स्थानीय दुकानदार तथा श्रद्धालुओं पर आश्रित रहने वाली धर्म नगरी के छोटे बड़े सभी व्यवसायियों को भी इसका लाभ होगा. अयोध्या की छटा इस समय अविस्मरणीय है. पूरी अयोध्या नगरी राम में हुई ह. उधर, भगवान भोलेनाथ की नगरी काशी से श्रद्धालुओं का एक जत्था रामधुन बजाते हुए अयोध्या पहुंचा है.