जयपुर। प्रदेश में बेकाबू हो रहे कोरोना संक्रमण से लोगों को जागरुक करने के लिये अशोक गहलोत सरकार अब गांधीगीरी करेगी। आम लोगों द्वारा सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनने में बरती जा रही लापरवाही और हेल्थ प्रोटोकॉल की पालना में अनुशासनहीनता को देखते हुए सरकार ने अब जागरुकता के लिए जन आंदोलन चलाने की घोषणा की है। सीएम अशोक गहलोत ने कोरोना समीक्षा बैठक के दौरान यह घोषणा की। सीएम ने अधिकारियों को विस्तृत कार्ययोजना बनाकर जागरुकता अभियान शुरू करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा कि महामारी विशेषज्ञों और डॉक्टर्स ने मास्क पहनने तथा सोशल डेस्टेंसिंग जैसे हेल्थ प्रोटोकॉल को ही कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव का सबसे बड़ा उपाय बताया है। इसके बावजूद आम लोग इसके प्रति लापरवाह हो रहे हैं। 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेशभर के एनसीसी, एनएसएस, स्काउट एण्ड गाइड, नेहरू युवा केन्द्रों जैसे संगठनों से जुड़े विद्यार्थियों, युवाओं और अध्यापकों को इस आंदोलन का हिस्सा बनाया जाये। उन्होंने कहा कि जिला कलेक्टर्स के माध्यम से गांव, कस्बों और शहरी में मोहल्ला समितियां बनाकर लोगों को हेल्थ प्रोटोकॉल की पालना का संदेश देना होगा। अधिकारियों को निर्देश दिए गये हैं कि स्वायत्त शासन, पंचायतीराज विभागों, नगर निगम, नगर पालिका सहित विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं, संगठनों आदि के सहयोग से अभियान को संचालित करने के लिए योजना शीघ्र तैयार करें। सीएम ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जागरूकता के इस जन आंदोलन में शामिल कार्यकर्ता सार्वजनिक जगहों पर बिना मास्क पहने लोगों को अपनी तरफ से मास्क वितरित कर इसे पहने रखने की अपील करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति बाजार, कार्यस्थल, सार्वजनिक परिवहन सहित भीड़-भाड़ वाली जगहों पर बिना मास्क नहीं रहें। अभियान की अगुवाई जनप्रतिनिधियों, वर्तमान तथा पूर्व पार्षदों एवं विधायकों और विभिन्न सामाजिक संस्थाओं द्वारा की जाए।