नई दिल्ली, बिहार विधानसभा चुनाव में बाजी कौन मारेगा, ये 10 नंवबर को तय होगा, लेकिन ओपिनियन पोल में सीएम नीतीश कुमार ही पहली पसंद बताए जा रहे हैं. वहीं, आरजेडी नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव प्रदेश के जनता की दूसरी पसंद हैं. बिहार चुनाव पर लोकनीति और सीएसडीएस द्वारा करवाए गए ओपिनियन पोल में 31 फीसदी लोगों ने बतौर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पसंद किया है, लेकिन इस रेस में तेजस्वी यादव बहुत पीछे नहीं हैं. उन पर 27 फीसदी लोगों ने भरोसा जताया है. ओपिनयन पोल के परिणामों के मुताबिक, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को बतौर मुख्यमंत्री 5 फीसदी, चिराग पासवान को 4 फीसदी और लालू प्रसाद यादव पर तीन फीसदी लोगों ने सहमति जताई है.

लोकनीति-सीएसडीएस का ओपिनियन पोल
लोकनीति-सीएसडीएस के ओपिनियन पोल में 37 विधानसभा सीटों के 148 बूथों को कवर किया गया जिनमें से 3731 लोगों से बात की गई. ये ओपिनियन पोल 10 से 17 अक्टूबर के बीच किया गया इनमें 60 फीसदी पुरुष और 40 फीसदी महिला मतदाताओं से बात की गई. पृष्ठभूमि की बात करें तो 90 फीसदी सैंपल ग्रामीण इलाकों से और 10 फीसदी शहरी इलाकों के लोगों से बात की गई. इनमें हर आयुवर्ग के लोग शामिल थे. 18 से 25 साल तक के 14 फीसदी, 26 से 35 साल के 29 फीसदी, 36 से 45 साल के 15 फीसदी, 46 से 55 साल के 15 फीसदी और 56 साल के अधिक के 17 फीसदी लोग शामिल थे. इस सैंपल में 16 फीसदी सवर्ण, 51 फीसदी ओबीसी, 18 फीसदी एससी और 14 फीसदी मुस्लिम शामिल रहे.एनडीए में भारतीय जनता पार्टी, जनता दल यूनाइटेड, एचएएम और वीआईपी शामिल हैं जबकि महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल, कांग्रेस, सीपीआईएमएल, सीपीआई, सीपीएम हैं. इसके अलावा ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट (जीडीएसएफ) राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी),  बहुजन समाज पार्टी (बसपा), असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम, समाजवादी जनता दल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, जनतांत्रिक पार्टी सोशलिस्ट का गठबंधन है.