मुम्बई । भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने कहा है कि आगामी न्यूजीलैंड दौरा टीम के लिए आसान नहीं होगा। इस दौरे में टीम के लिए सबसे कठिन हवा से निपटना होगा। रहाणे का कहना है कि तकनीक को लेकर उन्हें परेशानी नहीं है पर टीम को वेलिंग्टन और क्राइस्टचर्च की हवा से निपटने तैयार रहना होगा जिसमें गेंद को खेलना आसान नहीं होता। रहाणे ने कहा कि 'हम वहां 2014 में भी खेले थे तब भी हवा के रुख से परेशानी हुई थी। ऐसे में हालातों के अनुरुप ढ़लना सबसे कठिन होगा। हवा के चलते यहां गेंद में अतिरिक्त स्विंग होगी। रहाणे का मानना है कि तेज गेंदबाज नील वैगनर का सामना भी कठिन रहेगा। वैगनर ने हाल ही में ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को खूब परेशान किया और इससे पहले उन्होंने इंग्लैंड के बल्लेबाजों के लिए भी परेशानी खड़ी की थीं। पिछले 4 टेस्ट में वैगनर ने 27 विकेट लिए हैं। रहाणे ने कहा, 'चुनौतियों के रूप में आप सिर्फ एक नाम नहीं ले सकते। एक बल्लेबाजी इकाई के रूप में, आपको हर गेंदबाज को सम्मान देना होता है। एक घरेलू टीम के तौर पर कीवी अपने घरेलू हालातों को बेहतर तरीके से समझते हैं और उनको इसका लाभ मिलेगा पर हमें अपना स्वभाविक खेल खेलना होगा।  रहाणे ने कहा कि कीवी गेंदबाजों के सामने अगर हम क्रीज के बाहर खड़े हों तो हमें इसे संभालने में सफलता मिल सकती है। अलग-अलग गेंदबाजी का सामना करने के अलग-अलग ढंग होते हैं। सभी को अपनी क्षमताओं पर ही टिके रहना चाहिए। सबसे कारगर तरीका यही होगा कि बल्लेबाज जितना संभव हो उतना शरीर के करीब अपने शॉट्स खेले। आपको अपने बेसिक सही रखने की जरूरत है आप अपनी तकनीक पर बहुत ज्यादा नहीं सोच सकते।