नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश में लखीमपुरी खीरी कांड के बाद मृतक किसानों से मिलने जा रहीं प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में ले रखा है। पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को पार्टी नेता प्रियंका गांधी वाड्रा को हिरासत में लेने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस की खिंचाई की और उस पर संविधान की भावना का उल्लंघन करने का आरोप लगाया। इतना ही नहीं, सिद्धू ने भगवा पार्टी मानवाधिकारों पर हमला कर रही है। इससे एक दिन पहले मंगलवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने चेतावनी दी थी कि अगर उनकी पार्टी की नेता प्रियंका गांधी वाड्रा को बुधवार तक नहीं रिहा किया गया और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे को किसानों की हत्या के लिए गिरफ्तार नहीं किया गया तो कांग्रेस की पंजाब इकाई उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के लिए कूच करेगी नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को ट्वीट किया, '54 घंटे बीत गए प्रियंका गांधी जी को किसी भी न्यायालय में पेश नहीं किया गया है 24 घंटे से अधिक समय तक अवैध रूप से हिरासत में रखना मौलिक अधिकारों का स्पष्ट उल्लंघन है। बीजेपी और यूपी पुलिस:- आप संविधान की भावना का उल्लंघन कर रहे हैं, हमारे बुनियादी मानवाधिकारों पर हमला कर रहे हैं इससे पहले सिद्धू ने मंगलवार को ट्वीट किया था, 'यदि कल तक, किसानों की निर्मम हत्या के लिए जिम्मेदार केंद्रीय मंत्री के बेटे को गिरफ्तार नहीं किया जाता है और किसानों के लिए लड़ रहीं तथा गैरकानूनी तरीके से गिरफ्तार की गईं हमारी नेता प्रियंका गांधी को रिहा नहीं किया जाता है तो पंजाब कांग्रेस लखीमपुर खीरी के लिए कूच करेगी। बता दें कि प्रियंका गांधी सोमवार को तड़के जब लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में मारे गये किसानों के परिवारों से मिलने जा रही थीं तब उन्हें उत्तर प्रदेश के सीतापुर में हिरासत में ले लिया गया था । रविवार को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की लखीमपुर खीरी यात्रा को लेकर किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुई थी। हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोग मारे गये। किसान नेताओं ने दावा किया कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा उन कारों में से एक में सवार थे जिन्होंने कथित रूप से प्रदर्शनकारियों को कुचल डाला। प्रदर्शनकारी उपमुख्यमंत्री की यात्रा का विरोध कर रहे थे।