जांजगीर-चांपा। नरवा, गरवा, घुरवा और बारी का संवर्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता की योजना है। इस योजना के माध्यम से वर्षा जल का संरक्षण के लिए नरवा बंधान व स्टाप डेम बनाया जा रहा है । इसी प्रकार दूग्ध व्यवसाय, जैविक खेती व गोबर गैस के लिए व्यवस्थित गौठान व पुराने घुरवा का आधुनिक ढंग से संवर्धन किया जा रहा है। इसी प्रकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए सब्जी-फल-मसाला उत्पादन के लिए उद्यान विभाग द्वारा बारी का संवर्धन प्रारंभ किया है। संबंधित विभाग की योजनाओं के माध्यम से किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। जिले में 141 गौठानों का निर्माण प्रारंभ हो गया है। प्रथम चरण में अहाता, चारागाह, कोटना, वर्मीबेड आदि का कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है। सभी गौठानों के लिए सोलर पंप व चारागाह में चारा की व्यवस्था की जा रही है। अगले चरण में जैविक खाद व सामुदायिक गोबर गैस आदि भी तैयार किया जाएगा। गौठानो के व्यवस्थित संचालन से आवारा मवेशियों को आश्रय मिलेगा व खेत की फसल भी सुरक्षित रहेगी।