नई दिल्ली । टीम इंडिया के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत का कहना है कि अचानक ही उनमें बदलाव नहीं सकता। अभी वह 21 साल के हैं और समय के साथ ही उनमें भी परिपक्वता आएगी। ऋषभ ने कहा कि वह अपनी गलतियों से सीखते हुए लगातार अपना खेल बेहतर करने में लगे हैं। विश्व कप क्रिकेट में चयन नहीं होने से वह उन्हें पहले निराश हुई पर पेशेवर खिलाड़ी होने के नाते इससे उबरना जरुरी होता है जिससे भविष्य में बेहतर प्रदर्शन कर सकें। इस युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा कि चीजें हमेशा वैसी नहीं होंगी जैसा आप चाहते हैं। ऐसे समय में सकारात्मक बने रहना ही जरुरी होता है। ऋषभ ने कहा कि सकारात्मक रहने का फायदा यह है कि आपको खुद पर विश्वास रहता है। आपको जरूरत बस सकारात्मक रहने के लिए तरीका ढूंढने की होती है। मैं आलोचना को सकारात्मक तरीके में लेता हूं। मैं लगातार इसे सीखने की कोशिश कर रहा हूं।आप अपनी गलतियों और अनुभव से सीखते हैं। रातों रात कुछ भी नहीं बदलता।