एक्टर सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में मुंबई पुलिस और बिहार पुलिस के बीच विवाद जारी है. मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने सोमवार को कहा कि इस मामले की जांच करने का बिहार पुलिस के पास कोई अधिकार नहीं है. वहीं, बिहार कैडर के आईपीएस अफसर विनय तिवारी के क्वारनटीन से मुंबई पुलिस ने पल्ला झाड़ लिया.

मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि आईपीएस विनय तिवारी के क्वारनटीन से जुड़ा सवाल बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) से पूछें. मुझे उनके क्वारनटीन के बारे में जानकारी नहीं है. गौरतलब है कि आईपीएस विनय तिवारी के क्वारनटीन को लेकर बिहार और मुंबई पुलिस में विवाद है.

कमिश्नर ने कहा- 'एसपी को क्वारनटीन करने में हमारा कोई रोल नहीं है. BMC ने उस पर अपना काम किया है'. वहीं सुशांत केस की छानबीन करने आई बिहार पुलिस पर कमिश्नर ने कहा कि बिहार पुलिस के पास इस मामले की जांच-पड़ताल करने का कोई अध‍िकार नहीं है. हम इसपर कानूनी राय-मशव‍रा ले रहे हैं. हमने किसी को क्लीन चिट नहीं दिया है. सुशांत के पर‍िवार ने 16 जून को अपने बयानों पर हस्ताक्षर किए थे और कहा था कि सुशांत की मौत के पीछे उन्हें किसी पर शक नहीं है'.

आईपीएस अफसर ने कोरोना गाइडलाइन्स को मानने से किया था इनकार: BMC

बिहार पुलिस के एसपी विनय तिवारी के क्वारनटीन मामले में BMC का जवाब भी आ गया है. बीएमसी ने कहा कि बिहार पुलिस जो कुछ दिन पहले सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच करने आई है, उन्होंने बिना किसी नियम को माने मुंबई एयरपोर्ट पर एजेंसीज को गुमराह किया है. इंड‍िया टुडे से बातचीत करते हुए उनके अध‍िकारी ने बताया- 'बिहार टीम मेंबर्स ने कहा कि वे शहर में दो-तीन दिन के लिए हैं. उन्होंने स्टाफ से बात की और कहा कि वे यहां ऑफिश‍ियल काम के लिए आए हैं. इसल‍िए एयरपोर्ट पर जो स्टाफ थे उन्होंने बिहार पुलिस की टीम के साथ स्टैंप लगाने के लिए कोई जोर-जबरदस्ती नहीं की. पर उन्होंने साफ तौर पर एजेंसीज को गुमराह किया और शहर में ज्यादा दिनों तक रुके रहे'.

उन्होंने आगे कहा- 'बीएमसी को अभी बिहार टीम का कुछ पता नहीं है, वे जहां भी हैं उन्हें सामने आना चाहिए और क्वारनटीन में जाने के लिए खुद वॉलंट‍ियर करना चाहिए. उनमें कोरोना के लक्षण हो सकते हैं और इधर-उधर घूमते हुए वे दूसरों में भी ये वायरस फैला सकते हैं. इसल‍िए उन्हें अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए क्वारनटीन होना चाहिए'.

बता दें पटना एसपी विनय तिवारी को रव‍िवार देर रात क्वारनटीन किया गया. बीएमसी ने बताया कि उन्होंने एसपी के साथ वैसा ही व्यवहार किया जैसा अन्य डोमेस्ट‍िक फ्लायर्स के साथ करते हैं. बीएमसी के बयानों के मुताबिक 'P/South प्रशासन की ओर से सूचना मिली थी कि एक ऑफ‍िसर गोरेगांव ईस्ट स्थ‍ित SRPF गुप 8 गेस्टहाउस पहुंचा है. डोमेस्ट‍िक ट्रैवलर होने के नाते उन्हें राज्य सरकार की गाइडलाइन्स का पालन कर होम क्वारनटीन होने की जरुरत है. इसके बाद P/South वार्ड टीम ने 2 अगस्त की शाम उस गेस्टहाउस में जाकर उनसे संपर्क किया. टीम ने उन्हें डोमेस्ट‍िक एयर ट्रैवलर होने से लेकर होम क्वारनटीन की पूरी प्रक्रिया बताई, जो कि 25 मई 2020 को राज्य सरकार द्वारा जारी नोट‍िफ‍िकेशन संख्या DMU/2020/CR. 92.DisM-1 के तहत है. उन्हें राज्य सरकार नोट‍िफ‍िकेशन के तहत MCGM के सक्षम प्राध‍िकारी के पास होम क्वारनटीन में छूट देने के लिए आवेदन करने को लेकर भी बताया गया है'.

BMC ने ये भी कहा कि उक्त आईपीएस अफसर ने एयरपोर्ट पर नियमों का पालन करने से मना कर दिया था और इसल‍िए देर रात उन्हें सरकार की गाइडलाइन्स के अनुसार उन्हें क्वारनटीन में डाला गया. इस मामले पर महाराष्ट्र सरकार की विपक्ष पार्टी ने कहा है कि बिहार आईपीएस अफसर को क्वारनटीन में रखना केवल एक बहाना है. महाराष्ट्र सरकार असल मुद्दे की छानबीन से डरी हुई है.

दिशा सालियान सुसाइड केस पर ये है कमिश्नर का बयान

कमिश्नर ने सुशांत की मैनेजर दिशा साल‍ियान की मौत पर भी बात की. उन्होंने कहा- 'दिशा के मंगेतर के घर में पार्टी हुई थी. सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि उसने रात के 3 बजे सुसाइड किया था. उस वक्त वहां दिया के मंगेतर समेत पांच लोग मौजूद थे, लेक‍िन कोई पॉलिट‍िकल लीडर वहां नहीं था'.

बिहार से जांच के लिए कल मुंबई पहुंचे पटना के एसपी सिटी को कल रात 11 बजे बीएमसी ने 14 दिन के लिए क्वारनटीन पर भेज दिया गया. सरकारी ड्यूटी पर गए एक पुलिस अफसर के साथ बीएमसी के इस बर्ताव पर सवाल उठ रहे हैं. बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि अफसर के साथ ठीक नहीं हुआ है, क्योंकि वो सिर्फ अपनी ड्यूटी कर रहे हैं.