नई दिल्ली । आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह के खिलाफ संसद मार्ग थाने मंह शिकायत दर्ज कराई गई है। शिकायतकर्ता संतोष रंजन राय ने पुलिस को दी गई अपनी अर्जी में आरोप लगाया है कि संजय सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के संबंध में आपत्तिजनकर ट्वीट कर हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाई है। इसके साथ ही संजय सिंह ने दलित समाज को अपमानित करके उनकी भी भावनाओं को ठेस पहुंचाने का काम किया है और साफ झूठ बोला है।दरअसल,  संजय सिंह ने कहा था कि राम मंदिर भूमि पूजन से दलितों को दूर रखा गया है। आखिर ऐसा क्यों है कि भूमि पूजन में किसी दलित को नहीं बुलाया गया। उन्होंने ट्वीट किया,  मुझे एक दलित नेता ने फोन किया। बोले भाई साहब राष्ट्रपति दलित, उन्हें नही बुलाया गया, उप मुख्यमंत्री मौर्य, उन्हें नही बुलाया गया। ऐसा क्यों? भाजपा दलितों को मंदिरों से बाहर क्यों रखना चाहती है संजय सिंह के इस ट्वीट के बाद उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने शनिवार दोपहर को एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने संजय सिंह का नाम तो नहीं लिखा लेकिन मौर्य ने भूमि पूजन स्थल की तस्वीर और न्योते की तस्वीर साझा की। मौर्य ने लिखा, 'मर्यादा पुरुषोत्तम राम जी के आशीर्वाद  से शिलान्यास के पवित्र अवसर पर उपस्थित रहने का सुअवसर मिला। राम नाम जीने वाले पूज्य अशोक सिंहल के साथ करोड़ों  राम भक्तों के संकल्प को पूरा होते देखा! सियावर रामचंद्र की जय केशव प्रसाद मौर्य के इस ट्वीट से साफ हो गया कि उन्हें न सिर्फ भूमि पूजन का न्योता मिला था बल्कि वे कार्यक्रम के दौरान मौजूद भी थे। यूपी डिप्टी सीएम मौर्य पर किए गए संजय सिंह के इसी ट्वीट को लेकर संसद मार्ग थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है और एफआईआर करने की मांग की गई है। शिकायतकर्ता ने लिखा है, 'संजय सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के उपमुख्मंत्री केशव प्रसाद मौर्य को राम मंदिर शिलान्यास कार्यक्रम का निमंत्रण नहीं दिया गया जबकि मौर्य बतौर अतिथि वहां उपस्थित थे। संजय सिंह ने समाज में झूठ बोलकर विद्वेश, घृणा फैलाकर दंगा भड़काने की साजिश रचने का कार्य किया है। यूपी डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के इस ट्वीट के बाद संजय सिंह ने राम मंदिर भूमि पूजन में दलितों को नहीं बुलाने के मुद्दे को उठाना जारी रखा है लेकिन अब अपने ट्वीट में मौर्य का नाम नहीं लिख रहे हैं। संजय सिंह अब सिर्फ राष्ट्रपति की बात अपने ट्वीट में कर रहे हैं। शनिवार को किए गए एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है मेरा बीजेपी से सीधा सवाल है- राष्ट्रपति जी को भूमि पूजन में क्यों नहीं बुलाया गया? क्या इसलिए क्योंकि वो दलित हैं। भाजपा इसका जवाब दे।