नई दिल्ली: आजकल की टेंशन (Tension) भरी लाइफ (Life) में अपने आपको फिट (Fit) रखना बेहद मुश्किल हो जाता है. जो हमें कई सारी बीमारियां दे देता है. ऐसे में कुछ छोटी चीजें करके आप आपने आपको फिट रखने की कोशिश कर सकते हैं. जिसके लिए एक सिंपल वॉक (Walk) ही काफी है.
वॉकिंग से जो फायदा शरीर को मिलता है वह शायद ही किसी और तरीके से मिलता है. अगर सुबह आप आधे घंटे का भी समय निकाल कर मॉर्निंग वॉक (Morning Walk) करें तो कई फायदे हैं. यह किसी भी आयु वर्ग के लोगों के लिए फायदेमंद होता है.
इससे ना सिर्फ शारीरिक फायदे होते हैं बल्कि मानसिक फायदे भी मिलते हैं. डॉ. मिताली जैन (मैक्स हॉस्पिटल) बताती हैं कि इसे नियमित रुप से करने से शरीर से कई रोगों का भी नाश हो जाता है. आइये जानते हैं इसके कुछ अहम फायदे (Benefits of Morning Walk).
कैलोरी बर्न (Calorie Burn)
वॉकिंग से आपकी कैलोरी तेजी से बर्न होती है. कैलोरी बर्न होने से तेजी से आपका वजन भी कम होता है. अगर आप वेट लॉस करना चाहते हैं तो आपको नियमित तौर पर वॉकिंग करना चाहिए.
एनर्जी बूस्ट (Energy Booster)
वॉक पर जाने से शरीर को उतनी एनर्जी मिलती है जितनी कि एक कप कॉफी पीने से भी नहीं मिलती है. वॉक करने से शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन का बराबर प्रवाह होता है. यह शरीर में उन हॉर्मोन्स को बढ़ाता है जो एनर्जी लेवल को बढ़ाने में जिम्मेदार होते हैं.
जोड़ों के दर्द में राहत (Releif From Joint Pains)
अगर आपके जोड़ों में दर्द रहता है तो आपको वॉकिंग की आदत डालनी चाहिए. वॉकिंग करने से आपकी मांसपेशियां मजबूत होती हैं और इससे ज्वाइंट का दर्द सही होता है. हर सप्ताह अगर 5 से 6 मील वॉक कर लेते हैं तो इससे गठिया जैसी बीमारी का खतरा भी कम होता है.
दिल मजबूत बनाता है
सप्ताह में 5 दिन रोजाना कम से कम 30 मिनट तक वॉकिंग आपके लिए 19 फीसदी तक दिल की बीमारी के खतरे को कम करता है. अगर आप धीरे-धीरे वॉकिंग के समय को बढ़ाते हैं तो उसी के हिसाब से आपकी इस तरह की बीमारियों का खतरा भी कम होता जाता है.
डाइबिटीज को करता है कंट्रोल (Diabetes Controler)
अगर आप डाइबिटीज को कंट्रोल करना चाहते हैं, तो यह आपके लिए सबसे बेहतर तरीका है. हल्की धूप में सुबह की सैर आपको डाइबिटीज, हृदय रोग और दिमागी समस्याओं से दूर रखती है.
क्रिएटिव थिंकिंग (Creative Thinking)
वॉकिंग करने से मूड भी सही रहता है और क्रिएटिव थिंकिंग की क्षमता बढ़ती है. वॉकिंग के दौरान जितना हमारा शरीर एक्टिव रहता है उतना ही हमारा दिमाग भी सही दिशा में एक्टिव रहता है.