नई दिल्ली । कोरोना वायरस का कहर चार चरण के लॉकडाउन के बाद भी भारत में थम नहीं सका है। चौथे चरण के लॉकडाउन के अंतिम दौर में देश भर में कोरोना संक्रमण के मामले में तेजी से इजाफा हुआ है। प्रवासी मजदूरों की बड़े शहरों और महानगरों से घर वापसी के कारण अब गावों तक कोरोना पहुंच रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक अमेरिका, ब्राजीन, रूस, ब्रिटेन, स्पेन और इटली के बाद भारत इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित दुनिया का सातवां देश बन चुका है।

भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2 लाख के करीब पहुंच गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी अपडेट के अनुसार भारत में अब तक कुल 198706 लोगों को कोरोना संक्रमण हो चुका है। वहीं, 5598 लोगों की जान इस महामारी से गई है। ऐसे में जो आंकड़े सामने आ रहे हैं वो अभी भी चिंता का सबब बने हुए हैं। कहीं से भी राहत की खबर आती नहीं दिख रही है। जान भी और जहान भी वाला पीएम मोदी का नारा आगे तो बढ़ रहा है लेकिन स्थिति नियंत्रण में आती नहीं दिख रही है।

सरकार के अनुसार एक्टिव मरीजों की संख्या देश में 97581 है जबकि 95527 लोग इस बीमारी से ठीक या डिस्चार्ज हो चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के भारत में 8171 नए मामले सामने आए हैं जबकि इसी अवधि में 204 लोगों की मौत हुई है।

दरअसल, भारत में लॉकडाउन के चौथे चरण में कई रियायतें दिए जाने के बाद मामले पिछले दो हफ्तों में तेजी से बढ़ें हैं। देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। दिल्ली में कुल मामले 20,000 से ज्यादा हो गए हैं और अभी तक 523 लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसे में कोरोना मरीजों के लिए नए स्थान की तलाश के आदेश दिए गए हैं। साथ ही मृतकों का अंतिम संस्कार करने अथवा दफनाने के लिए भी अतिरिक्त जमीन तलाशने को कहा गया है।