नई दिल्ली |  महाराष्ट्र समेत कई राज्यों से वैक्सीन की कमी की शिकायत के बीच विदेश मंत्रालय ने कहा है कि टीकों के निर्यात पर कोई प्रतिबंध नहीं है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बगची ने गुरुवार को कहा कि हमारी घरेलू आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए आपूर्ति जारी रहेगी। टीके के निर्यात पर कोई प्रतिबंध नहीं है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने गुरुवार को सवाल किया कि राज्य को गुजरात और मध्य प्रदेश समेत कुछ अन्य राज्यों की तुलना में कोविड-19 के कम टीके क्यों दिए जा रहे हैं जबकि राज्य टीकाकरण अभियान में अग्रणी है और सबसे ज्यादा उपचाराधीन मामले हैं। टोपे ने कहा, हमारे पास मुश्किल से नौ लाख खुराकें बची हुई है जिससे एक या डेढ़ दिन ही टीकाकरण हो पाएगा। साथ ही कहा कि टीके की कमी के कारण सतारा, सांगली और पनवेल में कई टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए गए हैं। वहीं, मुंबई की महापौर किशोरी पेडनेकर ने कहा है कि शहर में कोविड-19 रोधी टीकों का स्टॉक खत्म होने को है, जिसके चलते शुक्रवार को टीकाकरण अभियान रोका जा सकता है। महापौर ने बृहस्पतिवार को 'पीटीआई-भाषा' से कहा कि अगर शहर को पर्याप्त संख्या में टीके मिलते हैं तो ही टीकाकरण अभियान को जारी रखा जा सकता है।