नई दिल्ली । वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर कोरोना से प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने के प्रयास में जुटे हैं। उन्होंने कहा है कि अर्थव्यवस्था की हालत दुरुस्त करने के लिए केंद्र सरकार आगे भी जरूरी कदम उठाने के लिए तैयार है। उन्होंने इस बात के भी संकेत दिए हैं कि बहुत जल्द ही प्राइवेट सेक्टर कर्मचारियों के लिए भी एलटीसी लाभ पर तस्वीर साफ की जाएगी। हाल ही में ऐलान किए गए प्रोत्साहन को लेकर उन्होंने कहा कि सरकार की मंशा वंचित एवं गरीब वर्ग को जरूरी मदद पहुंचाने की है। इस पैकेज का ऐलान भले ही सरकारी कर्मचारियों के लिए किया गया लेकिन ये खर्च कुछ ऐसी वस्तुओं पर होने वाले हैं, जिसका सीधा लाभ छोटे व्यापारी को मिल सकेगा।
प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को एलटीसी लाभ देने को लेकर वित्तमंत्री ने कहा कि बहुत जल्द उन कर्मचारियों के लिए बारे में स्पष्टीकरण जारी किया जाएगा, जिन्होंने नए टैक्स सिस्टम को अपना लिया है या जिन्होंने पहले ही एलटीए का लाभ ले लिया है। आने वाले सप्ताह में इस बारे में स्पष्टीकरण जारी हो सकता है। इंटरव्यू में अनुराग ठाकुर ने दोनों प्रोत्साहन पैकेज और अर्थव्यवस्था पर इसके असर को लेकर कहा कि हमें बड़ी तस्वीर देखने की जरूरत है। आलोचना तो स्वाभाविक रूप से होगी। भारत ही इकलौता ऐसा देश है जहां 8 महीनों के लिए 80 करोड़ लोगों को मुफ्त में अनाज दिया गया। इसके अलावा, गरीब वर्ग के बैंक अकाउंट में 68,000 करोड़ रुपए ट्रांसफर किए गए हैं। इसके अलावा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों के लिए भी कई कदम उठाए गए हैं।