पुलवामा पर मोदी की दो टूक:प्रधानमंत्री बोले- पुलवामा हमले में वीर बेटों के जाने से देश दुखी था, तब कुछ लोग दुख में शामिल नहीं थे
केवडिया, 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गुजरात दौरे का आज दूसरा दिन है। आज सरदार पटेल की 145वीं जयंती भी है। इस मौके पर मोदी ने केवडिया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास हुए एकता दिवस के प्रोग्राम को संबोधित किया। इसमें धारा 370 और पुलवामा हमले की बात की।

मोदी ने किसी का नाम लिए बिना विपक्ष पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, "देश कभी भूल नहीं सकता कि पुलवामा हमले के बाद जब वीर बेटों के जाने से पूरा देश दुखी था, तब कुछ लोग उस दुख में शामिल नहीं थे। वे पुलवामा हमले में भी अपना राजनीतिक स्वार्थ खोज रहे थे।"

37 मिनट के भाषण में मोदी की 5 बड़ी बातें

1. 'पुलवामा हमले के वक्त भद्दी राजनीति चरम पर थी'

देश कभी भूल नहीं सकता कि जब वीर बेटों के जाने से पूरा देश दुखी था तब कुछ लोग उस दुख में शामिल नहीं थे। वो पुलवामा हमले में भी अपना राजनीतिक स्वार्थ खोज रहे थे। देश भूल नहीं सकता कि कब कैसी-कैसी बातें कही गईं, कैसे-कैसे बयान दिए गए। देश भूल नहीं सकता कि जब देश पर इतना बड़ा घाव लगा था तब स्वार्थ और अहंकार से भरी भद्दी राजनीति कितने चरम पर थी। उस समय उन वीरों की तरफ देखते हुए मैंने विवादों से दूर रहते हुए सारे आरोपों को झेलता रहा। भद्दी-भद्दी बातें सुनता रहा। मेरे दिल पर वीर शहीदों का गहरा घाव था।

2. 'पड़ोसी देश ने सच कबूला, भद्दी राजनीति करने वालों का असली चेहरा सामने आया'

लेकिन, पिछले दिनों पड़ोसी देश से जो खबरें आईं हैं, वहां की संसद में सत्य स्वीकारा गया है, उससे इन लोगों का असली चेहरा देश के सामने आ गया है। अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए ये लोग किस हद तक जा सकते हैं। पुलवामा हमले के बाद की गई राजनीति इसका उदाहरण है।

3. 'राजनीतिक दल देश-विरोधी ताकतों के हाथों में न खेलें'

ऐसे दलों और लोगों से विशेष आग्रह करूंगा कि सरदार साहब के प्रति श्रद्धा है तो देशहित में, देश की सुरक्षा के हित में हमारे सुरक्षाबलों के मनोबल के लिए ऐसी राजनीति नहीं करें, ऐसी चीजों से बचें। अपने स्वार्थ के लिए जाने-अनजाने आप देश विरोधी ताकतों के हाथों में खेलकर, उनका मोहरा बनकर, न आप देश का हित कर पाएंगे, न अपने दल का। हमें याद रखना है कि हमारे लिए सर्वोच्च हित देश-हित है।

4. 'धारा 370 हटने से पटेल साहब का सपना पूरा हुआ'

पटेल को याद करते हुए मोदी ने धारा 370 की बात भी छेड़ी। उन्होंने कहा, "देश में कई ऐसे काम हुए हैं जो असंभव मान लिए गए थे। कश्मीर से धारा 370 हटने का एक साल पूरा हो गया है। सरदार साहब के रहते उन्हें ही यह जिम्मेदारी दे दी जाती, तो यह काम हमें नहीं करना पड़ता। कश्मीर से 370 हटाना सरदार साहब का सपना था। कश्मीर अब विकास के रास्ते पर बढ़ चुका है।"

5. 'कोरोना में हमने जो एकजुटता दिखाई, वह पटेल को सच्ची श्रद्धांजलि'

"हमारे कोरोना वॉरियर्स, कई पुलिसकर्मियों ने दूसरों की जिंदगी बचाने के लिए अपना जीवन दे दिया। इतिहास कभी इस स्वर्णिम पल को भुला नहीं सकेगा। ये देश की एकता की ही ताकत थी कि जिस महामारी ने दुनिया को मजबूर कर दिया, लेकिन हमें मजबूती दी। इसी एकजुटता की कल्पना सरदार पटेल ने की थी। ये उनको सच्ची श्रद्धांजलि है।