लखनऊ. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh) के थाने में बीजेपी विधायक और पुलिस द्वारा एक-दूसरे पर लगाया गाए मारपीट के आरोप मामले में एक तरफ शासन की तरफ से कार्रवाई जारी है. वहीं दूसरी तरफ मामले में सियासत भी तेज हो गई है. बहुजन समाज पार्टी (Bahujan Samaj Party) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने इस घटना को लेकर प्रदेश की कानून व्यवस्था (Law and Order) पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था दम तोड़ रही है. उन्होंने सलाह दी है कि सरकार इस पर समुचित ध्यान दे.

अति-गंभीर व काफी चिन्ताजनक
मायावती ने ट्वीट किया है, “ यूपी में अब कानून-व्यवस्था दम तोड़ रही है. कल अलीगढ़ में स्थानीय भाजपा विधायक व पुलिस द्वारा एक-दूसरे पर लगाया गया आरोप व मारपीट अति-गंभीर व काफी चिन्ताजनक. इस प्रकरण की न्यायोचित जांच होनी चाहिए व जो भी दोषी हैं उनके विरूद्ध सख्त कार्रवाई होनी चाहिए, बीएसपी की यह मांग है.”
अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा है, “साथ ही, यूपी में इस प्रकार की लगातार हो रही जंगलराज जैसी घटनाओं से यह स्पष्ट है कि खासकर अपराध-नियंत्रण व कानून-व्यवस्था के मामले में सपा व बीजेपी की सरकार में भला फिर क्या अन्तर रह गया है? सरकार इसपर समुचित ध्यान दे, बीएसपी की जनहित में यही सलाह.”

सीएम योगी ने लिया संज्ञान, कार्रवाई शुरू
बता दें मामला मीडिया की सुर्ख़ियों में आने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लिया और डीजीपी को तत्काल कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया. इगलास विधायक राजकुमार का आरोप है कि कार्यकर्ता की ओर से कई दिन पूर्व दर्ज कराई गई रिपोर्ट पर कार्रवाई करने की बजाय थानाध्यक्ष ने कल पैसे लेकर उलटा उसी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया. इस मामले को लेकर वह एसओ से बात करने आये थे. विधायक का आरोप है कि इस दौरान एसओ ने अभद्रता की और एसओ समेत 3 दरोगाओं ने मारपीट करते हुए उनके कपड़े फाड़ दिए. फिलहाल इस मामले की जांच करके IG अलीगढ़ को 24 घंटे में अपनी रिपोर्ट देनी है.