महासमुंद। पुलिस ने 22 अक्टूबर को पिथौरा थाना क्षेत्र में हुई डकैती की कोशिश के मामले में एक मैकेनिकल इंजीनियर को पकड़ा है। यह युवक घटना का मास्टर माइंड है। इसी ने पूरी योजना बनाई और बाद में रायपुर में जाकर छुप गया। घटना में नाकाम रहे युवकों के गैंग को पुलिस ने पकड़ लिया है। फिलहाल एक आरोपी फरार है। रविवार को पुलिस ने इस मामले में रायपुर से इंजीनियर विकास प्रधान समेत 3 युवकों को पकड़ा है। पहले इस मामले में 3 गिरफ्तारियां और हो चुकी हैं। जानकारी के अनुसार फरियादी नंदू मोहंती ने अपने घर में हुए डकैती के प्रयास की जानकारी पुलिस को दी थी। इस मामले में पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तीन युवकों को पकड़ा। इनसे पता चला कि इनका मुखिया रायपुर में रहने वाला विकास है। विकास महासमुंद में रह चुका है। पता चला कि पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर विकास कर्ज से परेशान था, इसलिए उसने डकैती का प्लान बनाया। 10 लाख के कर्ज को चुकाने उसने डाका डालने की योजना बनाई। उसने आरोपी उमेश उर्फ मुन्ना, आदर्श मिश्रा, चैतलाल उर्फ कान्हू, नंदू मोहंती को अपने साथ इसमें शामिल किया।
आरोपियों ने नंदू के घर की रेकी करना शुरू किया। पूरा प्लान तैयार किया गया। इसके बाद 22 अक्टूबर की शाम करीब साढ़े आठ बजे इन बदमाशों ने घर पर धावा बोल दिया। मगर कामयाब न हो सके। इसी इलाके में एक और घर में भी डाका डालने का प्लान था मगर वहां भीड़-भाड़ होने की वजह से इनका प्लान विफल हो गया। पुलिस ने इस मामले में फौरन युवकों को पकड़ा। मगर विकास तब गिरफ्तार नहीं हो सका। इस मामले में ओडिशा के रहने वाले बदमाशों ने इन्हें हथियार दिलाने में मदद की। उन आरोपियों को भी पुलिस ने जल्द पकड़ने का दावा किया है।