नई दिल्ली । अमेरिका में अश्वेत जार्ज फ्लायड की मौत के बहाने बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सरकारों को नसीहत दी है। मायावती ने मंगलवार को कहा कि अमेरिकी आंदोलन ने पूरी दुनिया को संदेश दिया है कि आदमी के जीवन की कीमत है,इस सस्ती समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। मायावती ने लिखा,जार्ज फ्लायड की पुलिस के हाथों मौत के बाद अश्वेतों की जिदंगी की भी कीमत है’ को लेकर अमेरिका में हर जगह व विश्व के बड़े शहरों में भी इसके समर्थन में जो आंदोलन हो रहा है, उसका पूरी दुनिया को स्पष्ट संदेश है कि आदमी के जीवन की कीमत है,इस सस्ती समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। 
प्रवासी मजदूरों का मामला उठाकर मायावती ने कहा,खासकर अपने भारत का अनुपम संविधान प्रत्येक व्यक्ति की स्वतंत्रता, सुरक्षा व उसके आत्म-सम्मान व स्वाभिमान के साथ जीने की जबर्दस्त गारंटी देता है, जिसपर सरकारों को सर्वाधिक ध्यान देना चाहिए। अगर ऐसा होता तब करोड़ों प्रवासी श्रमिकों को आज इतने बुरे दिन नहीं देखने पड़ते। 
मायावती ने कहा, 'कोराना के बढ़ते मरीजों व मौतों के मद्देनजर केन्द्र व देश के विभिन्न राज्यों के बीच तालमेल व सद्भावना के बजाय उनके बीच बढ़ता आरोप-प्रत्यारोप तथा राज्यों की आपसी सीमाओं को सील करना अनुचित व कोरोना के विरूद्ध संकल्प को कमजोर करने वाला है।