नई दिल्ली. संसद का शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) 29 नवंबर से शुरू होने जा रहा है. संसद से शीतकालीन सत्र से ठीक पहले पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) तीन दिवसीय दौरे पर दिल्ली पहुंचने वाली हैं. बनर्जी 22 नवंबर से 25 नवंबर तक दिल्ली में रहेंगी. मई में पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनावों में लगातार तीसरी जीत दर्ज के बाद बंगाल सीएम का यह दूसरा दिल्ली दौरा है.गौरतलब है कि इससे पहले मई में जीत दर्ज करने बाद वे जून में दिल्ली पहुंची थीं. उस वक्त उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कमलनाथ और आनंद शर्मा जैसे वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की थी. माना जा रहा है कि संसद के मानसून सत्र शुरू होने से पहले बनर्जी दिल्ली पहुंच कर विपक्ष से मुलाकात कर सरकार को संसद में घेरने की रणनीत बना सकती हैं.

लोकसभा चुनावों विपक्ष होगा ज्यादा मजबूत
जून के दौरे पर उन्होंने कहा कि आने वाले लोकसभा में विपक्ष इस बार बीजेपी से ज्यादा मजबूत होगा. उन्होंने इस बात का भी दावा किया था कि 2024 लोकसभा चुनाव में विपक्ष एक इतिहास रचेगा. सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि इस बार का लोकसभा चुनाव मोदी बनाम देश वाला होगा. राजनीतिक विश्लेषक उनकी इस दूसरी यात्रा को विपक्ष के लिए बूस्टर शॉट के तौर पर देख रहे हैं.

वरुण गांधी से कर सकती हैं मुलाकात
मीडिया में सामने आ रही खबरों के मुताबिक अपने दिल्ली दौरे में ममता बनर्जी भाजपा के युवा नेता वरुण गांधी से भी मुलाकात कर सकती हैं. इससे पहले राजनीति गलियारे में इस बात के कयास भी लगाए जा रहे थे कि वरुण गांधी बीजेपी का दामन छोड़कर टीएमसी में शामिल हो सकते हैं. बता दें कि हाली में भाजपा ने वरुण गांधी और उनकी मां मेनका गांधी को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति से बाहर कर दिया था.

विपक्ष को एकजुट करने में लगी ममता बनर्जी
उत्तर प्रदेश, पंजाब, त्रिपुरा समेत कई राज्यों में विधानसभा चुनावों को देखते हुए विपक्ष ने अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है. विधानसभा चुनावों के मद्दे नजर ममता बनर्जी की इस यात्रा को काफी अहम माना जा रहा है. बनर्जी पिछले कई महीनों से लगातार विपक्ष को एकजुट करने में लगी हुई हैं और कहा जा रहा है कि वह दिल्ली पहुंच कर एक बार विपक्ष के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर सकती हैं. माना जा रहा है कि इस बार वह कृषि कानूनों समेत कई मुद्दों पर रणनीति तैयार करने के उद्देश्य से दिल्ली के दौरे पर जा रही हैं.बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी के कृषि कानूनों के वापसी के ऐलान के बाद ममता बनर्जी ने ट्वीट करके किसानों को बधाई दी थी. उन्होंने अपनी ट्वीट में किसान आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के प्रति संवेदना जताई और प्रदर्शन करने वाले किसानों के साथ क्रूरता करने पर बीजेपी की निंदा भी की थी.