• अंबिकापुर में भी 21 की रात से; बिलासपुर बालोद, धमतरी में 22 सितंबर से लॉकडाउन
  • बालोद में 30 व बाकी जिलों में 28 तक बंद
  • बेवजह घूमने वालों की गाड़ियां जब्त करने के साथ एफआईआर भी होगी

रायपुर जिले में 21 सितंबर की रात 9 बजे से सख्त लाॅकडाउन लगाया जा रहा है। ऐसा पहली बार होगा, जब लोगों को पेट्रोल भी नहीं मिलेगा। राजधानी सहित जिले में औसतन हर दिन एक हजार कोरोना मरीज मिलने के बाद एक बार फिर से पूरे जिले को लॉकडाउन करने का फैसला किया है। 28 सितंबर को रात 12 बजे तक केवल दूध, दवा, गैस और केवल सरकारी गाड़ियों को ही पेट्रोल-डीजल ही मिलेगा। राशन, किराना, सब्जी, फल, नॉनवेज समेत किसी भी तरह की कोई दुकान नहीं खुलेगी। आदेश जारी करते हुए कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन ने साफ कर दिया है कि इस बार के इमरजेंसी के अलावा किसी को भी बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी जाएगी। बेवजह बाहर घूमने पर लोगों की गाड़ियां जब्त करने के साथ ही उन पर एफआईआर भी की जाएगी। वहीं प्रदेश में बढ़ते संक्रमण के बीच रायपुर के अलावा अंबिकापुर 21 सितंबर रात से और बिलासपुर, धमतरी में 22 से लॉकडाउन रहेगा। इन जिलों में 28 सितंबर तक सब बंद रहेगा। बालोद में भी 22 से 30 सितंबर तक लॉकडाउन किया जा रहा है।

राजधानी में लॉकडाउन के फैसले के लिए कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन ने शनिवार की दोपहर को सभी आला अफसरों की बैठक बुलाई। इसमें कोविड से जुड़े सभी विभागों के अफसरों को बुलाया गया और उनसे राय ली गई। आखिरी में सभी की सहमति से पूरे रायपुर जिले को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया। 21 से 28 सितंबर तक जिले में धारा 144 भी लागू कर दी गई है। कलेक्टर के आदेश के तहत इस बार सरकारी दफ्तर भी बंद रहेंगे जो खुलेंगे उनमें आम लोगों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। धार्मिक संस्थान नहीं खुलेंगे, किसी भी तरह के कार्यक्रमों को आयोजित करने की अनुमति नहीं होगी।

रायपुर में होगी कर्फ्यू जैसी सख्ती

सरकारी और स्वास्थ्य सेवाओं में लगी गाड़ियों को ही मिलेगा पेट्रोल-डीजल बाकी को नहीं।
किराना, राशन, सब्जी दुकानों समेत सभी बाजार बंद, सरकारी और प्राइवेट दफ्तर भी नहीं खुलेंगे।
मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च एक बार फिर से बंद, नहीं जा पाएंगे लोग, पुलिस का रहेगा पहरा।
इस बार का लॉकडाउन सबसे ज्यादा सख्त, इमरजेंसी को छोड़ किसी को भी बाहर जाने अनुमति नहीं।
केवल यही छूट

दूध की ही दुकानें सुबह 6 से 8 और शाम को 5 से 6.30 बजे तक खुल सकेंगी।
पशु चारे के लिए पैट शॉप, एक्वेरियम सुबह 6 से 8 और शाम 5 से 6.30 तक खुलेंगी।
सिलेंडरों की केवल ऑनलाइन बुकिंग होगी। गैस एजेंसियों को घरों तक पहुंचाना होगा।
कोविड केयर सेंटरों में भोजन, दवा, उपकरण आदि की सप्लाई पहले जैसे ही रहेगी।
जिले की सीमाएं सील हो जाएंगी। इसलिए बाहर जाने के लिए पहले ई-पास लेना होगा।
कोरोना मरीजों की पहचान का काम पहले के जैसे ही चलेगा, इससे जुड़ी सेवाएं भी।
मीडियाकर्मी जरूरी काम पर बाहर जा सकेंगे, लेकिन उन्हें आई कार्ड साथ रखना होगा।
फैक्ट्रियों, उद्योगों या कंस्ट्रक्शन साइट में मजदूरों को वहीं रखकर काम करवा सकते हैं।