भोपाल. बिहार चुनाव और मध्य प्रदेश, गुजरात उप चुनाव (By election) में हार के बाद कांग्रेस (Congress) में मचे घमासान में मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेता भी शामिल हो गए हैं. कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे सज्जन सिंह वर्मा ने कांग्रेस की इस हार के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को ज़िम्मेदार ठहरा दिया. कपिल सिब्बल को निशाना बनाते हुए वर्मा तो यहां तक कह गए कि बुढ़ापे में पद छोड़कर युवाओं को मौका देना चाहिए.

आज पीसीसी चीफ कमलनाथ का जन्मदिन है. इस मौके पर पार्टी दफ्तर में कार्यक्रम हुआ. लेकिन खुशी के इस मौके पर भी उपचुनाव में हार की टीस नेताओं के मन में भरी रही. मीडिया से बातचीत करते हुए पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधा. कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल खड़े करने वाले पार्टी नेता कपिल सिब्बल पर सज्जन सिंह वर्मा ने कहा, कपिल सिब्बल जैसे नेताओं की वजह से ही कांगेस डूब रही है.सिब्बल को पार्टी ने झोली भर भर के पद दिए हैं.लेकिन केंद्र में सरकार जाने के बाद से पार्टी के लिए 2 मिनट का वक्त नहीं निकाला सिब्बल ने. उन्हें अब बुढ़ापे में पद छोड़ देना चाहिए.नए लोगों को मौका देना चाहिए.

वरिष्ठ नेताओं पर साधा निशाना

सज्जन सिंह वर्मा ने कपिल सिब्बल और पी चिदंबरम पर आरोप लगाया कि पार्टी की वर्तमान हालात के लिए ये दोनों जिम्मेदार हैं. पार्टी ने इन्हें भर भर के पद दिये हैं.मेरे मुँह पर ताला लगा है. फिर भी पार्टी कार्यकर्ताओं से आव्हान करूंगा, ऐसे नेताओं को जबाव दें.

बीजेपी का मुकाबला अब गठबंधन से होगा

दिल्ली से लेकर मध्यप्रदेश तक कांग्रेस में मचे घमासान का बीजेपी मज़ा ले रही है. प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा अब कांग्रेस में किसी का भविष्य नहीं बचा है. बीजेपी को अब चुनाव कांग्रेस के खिलाफ नहीं बल्कि गठबंधन के खिलाफ लड़ना होगा. कांग्रेस का जहाज डूब गया है. उसमें अब कोई सवारी नहीं करना चाहता है. कांग्रेस में कुछ नेता ही पार्टी को चलाना चाहते हैं. दूसरे किसी को मौका नहीं देते हैं.