कोलकाता |  कोलकाता के स्ट्रैंड रोड इलाके में सोमवार की शाम एक बहुमंजिला इमारत की 13वीं मंजिल पर आग लग गई। इस भीषण आग में नौ लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में 4 दमकलकर्मी, एक एसआई और 2 आरपीएफ के जवान शामिल भी हैं। सूचना पर मौके पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहुंचीं। उन्होंने मृतक के परिवारों को 10-10 लाख रुपये का मुआवजा और सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया। इसमें रेलवे के कार्यालय हैं। हालांकि, इस दर्दनाक हादसे पर ब्लेम गेम भी देखने को मिला। 

घटनास्थल पर पहुंचीं ममता बनर्जी ने कहा कि यह संपत्ति रेलवे की है, यह उनकी जिम्मेदारी है मगर वे भवन का नक्शा मुहैया करने में असमर्थ रहे। मैं इस त्रासदी पर राजनीति नहीं करना चाहती हूं, मगर रेलवे का कोई भी व्यक्ति यहां नहीं आया है। 
वहीं, इस मसले पर पूर्वी रेलवे के महाप्रबंधक मनोज जोशी ने कहा कि रेलवे के अधिकारी घटनास्थल पर मौजूद थे, जो भी आवश्यक था उसके लिए प्रयास किए जा रहे थे। शायद किसी भी नक्शे को तुरंत उपलब्ध नहीं कराया गया था, हालांकि, रेलवे के कर्मचारी सदस्य इमारत के बारे में मार्गदर्शन करने के लिए उपस्थित थे। उन्होंने कहा कि आग लगने की वजहों का पता लगाने के लिए रेलवे की ओर से एक उच्चस्तरीय टीम का गठन किया गया है। अगर राज्य सरकार कोई जांच करवाती है तो हम उसमें मदद करेंगे।
दमकल विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि आग बुझाने के लिए मौके पर 10 दमकल गाड़ियों को भेजा गया। कोलकाता पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि आग लगने की यह घटना शाम छह बजकर 10 मिनट पर हुई। बताया जा रहा है कि आग की चपेट में आने से सात लोगों की मौत हो गई। इसमें आग बुझाने के दौरान 4 दमकलकर्मी, एक एसआई और दो आरपीएफ के जवान भी चपेट में आ गए।

पूर्व रेलवे के प्रवक्ता कमल देव दास ने बताया कि न्यू कोयलाघाट बिल्डिंग में आग लगी। इसमें पूर्व रेलवे और दक्षिण पूर्व रेलवे का जोनल कार्यालय है और भूतल पर एक कंप्यूटराइज टिकट बुकिंग केंद्र है। पुलिस ने बताया कि आग बुझाने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए स्ट्रैंड रोड पर यातायात को रोक दिया गया। उन्होंने बताया कि आग पर काबू करने का प्रयास कर रहे हैं, इमारत को खाली करा लिया है।