दुबई | केएल राहुल ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में भारतीय खिलाड़ियों में बेस्ट स्कोर का रिकॉर्ड बनाया लेकिन किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान ने गुरुवार को कहा कि रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) के खिलाफ मैच से पहले वह अपनी बल्लेबाजी को लेकर बहुत आश्वस्त नहीं थे। राहुल ने नाबाद 132 रन बनाए जिससे किंग्स इलेवन ने पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर तीन विकेट पर 206 रन बनाए और फिर आरसीबी की टीम 17 ओवर में 109 रन पर आउट करके 97 रन से बड़ी जीत दर्ज की। राहुल ने हालांकि जीत का श्रेय पूरी टीम को दिया।
अपनी शानदार पारी के लिए मैन आफ द मैच बने राहुल ने कहा कि यह टीम के लिहाज से संपूर्ण प्रदर्शन था इसलिए खुश हूं। असल में मैं अपनी बल्लेबाजी को लेकर आश्वस्त नहीं था। कल मेरी मैक्सी (ग्लेन मैक्सवेल) से बात हुई थी और मैंने कहा था कि मुझे अपनी बल्लेबाजी पर पूरा नियंत्रण नहीं लग रहा है। उसने कहा कि तुम मजाक कर रहे हो। तुम बहुत अच्छी तरह से हिट कर रहे हो। उन्होंने कहा कि शुरू में मैं थोड़ा नर्वस था लेकिन मैं जानता था कि कुछ गेंदें खेलने के बाद मैं लय हासिल कर लूंगा। कप्तान होने के बावजूद मैं पुराना रुटीन ही अपनाता हूं। टॉस तक मैं खुद को खिलाड़ी ही समझना चाहता हूं कप्तान नहीं। मैं खिलाड़ी और कप्तान के बीच संतुलन बनाने की कोशिश करता हूं।
राहुल ने अपने गेंदबाजों विशेषकर युवा लेग स्पिनर रवि बिश्नोई की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि मैंने उसे अंडर-19 विश्व कप में देखा है। वह हार नहीं मानता और जब भी उसे गेंद दो तैयार रहता है। वह आरोन फिंच और एबी (डिविलियर्स) को गेंदबाजी करने को लेकर थोड़ा नर्वस था लेकिन उसने जज्बा दिखाया। राहुल के दो कैच टपकाने वाले आरसीबी के कप्तान विराट कोहली ने माना कि उनकी यह गलती टीम पर भारी पड़ी क्योंकि अगर इससे उन्हें 35-40 रन का नुकसान हुआ।
कोहली ने कहा कि बीच के ओवरों में हमने अच्छी गेंदबाजी की। उन्होंने अच्छी शुरुआत की थी और हमने अच्छी वापसी की। मैं इसकी जिम्मेदारी लेता हूं। मेरे लिए आज का दिन अच्छा नहीं रहा। केएल (राहुल) को दो जीवनदान देने से हमें 35-40 रन का नुकसान हुआ। अगर हम उन्हें 180 रन पर रोक लेते तो हम पर पहली गेंद से ही दबाव नहीं होता। उन्होंने कहा कि क्रिकेट मैदान पर कभी ऐसा हो जाता है और हमें इसे स्वीकार करना होगा। हमने एक अच्छा मैच खेला और एक बुरा। अब हमें गलतियों से सबक लेकर आगे बढ़ना होगा।