कमलनाथ ने कहा 35 दिन बाद स्पीकर हम बनाएंगे, शिवराज बोले सही कह रहे हैं ! 

कमलनाथ ने कहा 35 दिन बाद स्पीकर हम बनाएंगे, शिवराज बोले सही कह रहे हैं ! 20 मार्च को जब कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था तब mp कांग्रेस के ऑफिशल टि्वटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया था. उसमें लिखा था कि इस साल 15 अगस्त को झंडा वंदन बतौर मुख्यमंत्री कमलनाथ ही करेंगे. 
कोरोना (Corona) के कारण MP विधानसभा का सत्र एक दिन का कर दिया गया है. इस वजह से विधानसभा अध्यक्ष-उपाध्यक्ष का चुनाव टल गया है
 


भोपाल. विधानसभा उप चुनाव से पहले मध्य प्रदेश में सियासी पारा लगातार चढ़ता जा रहा है. इस बार पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ (Kamalnath) और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Cm shivraj) खुद आमने-सामने हैं. हैरानी की बात यह है कि कमलनाथ के दावे पर इस बार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मोहर लगा दी है.

विधानसभा सत्र को लेकर हुई सर्वदलीय बैठक के बाद पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने कहा था कि विधानसभा अध्यक्ष तो 35 दिन बाद हम बनाएंगे. दरअसल कोरोना के कारण सत्र एक दिन का होेने के कारण विधानसभा अध्यक्ष-उपाध्यक्ष का चुनाव टल गया है. मीडिया ने यही सवाल कमलनाथ से किया था.

शिवराज ने किया समर्थन

कमलनाथ के इस बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चुटीले अंदाज में पलटवार किया.मुख्यमंत्री  ने कहा कि कमलनाथ सही कह रहे हैं कि विधानसभा अध्यक्ष वह बनाएंगे, लेकिन कांग्रेस का नहीं बल्कि बीजेपी का बनाएंगे. सदन के अंदर पक्ष और विपक्ष दोनों मिलकर अध्यक्ष बनाते हैं. सीएम शिवराज के इस बयान को कमलनाथ पर तंज के तौर पर देखा जा रहा है
 

उपचुनाव से पहले तारीखें

ऐसा नहीं है कि मध्य प्रदेश में उपचुनाव से पहले तारीखों को लेकर पहली बार सियासत हुई हो. इससे पहले 20 मार्च को जब कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था तब मध्य प्रदेश कांग्रेस के ऑफिशल टि्वटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया था. उसमें लिखा था कि इस साल 15 अगस्त को झंडा वंदन बतौर मुख्यमंत्री कमलनाथ ही करेंगे. 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन कांग्रेस के इस ट्वीट की खूब चर्चा रही और बीजेपी ने सियासी तौर पर कांग्रेस पर जमकर कटाक्ष किए थे.
 

कांग्रेस-बीजेपी के दावे

उप चुनाव से पहले बीजेपी और कांग्रेस दोनों जीत के दावे कर रहे हैं.एक तरफ जहां कांग्रेस दावा कर रही है कि वह उपचुनाव की सभी 28 सीटों पर जीत दर्ज करेगी तो वहीं बीजेपी ने कहा है कि कांग्रेस यह दिवास्वप्न देख रही है. कौन कितनी सीट जीतेगा यह जनता बता तय करेगी. मध्य प्रदेश में पहले 27 सीटों पर उप चुनाव होने थे लेकिन कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन के बाद अब उपचुनाव वाली सीटों की संख्या बढ़कर 28 हो गई है