मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को ब्यावरा विधानसभा क्षेत्र के लखनवास में चुनावी सभा ली। यहां सभा के आखिरी में उन्होंने लोगों से पूछा- क्या दिग्गी राजा अभी आए थे? लोगों ने जवाब दिया- नहीं। इस पर शिवराज ने एक महात्मा और शिकारी की कहानी सुनाते हुए कहा- शिकारी आएगा, दाना डालेगा, जाल बिछाएगा, लेकिन हम नहीं फंसेंगे।

मुख्यमंत्री ने आइटम वाले बयान पर फिर कमलनाथ पर निशाना साधा। उन्होंने कहा- जब उनके नेता राहुल गांधी ने भी इसे गलत मानते हुए माफी मांगी, लेकिन कमलनाथ इतने अड़ियल रवैये के हैं की उन्होंने माफी भी नहीं मांगी।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को शिवपुरी जिले की करैरा और पोहरी विधानसभा के बैराड़ में सभाओं को संबांधित किया। उन्होंने कहा- 28 सीटों पर उपचुनाव में से 25 किसी के निधन के कारण नहीं हो रहे हैं बल्कि सौदेबाजी व बोली के कारण हो रहे हैं।

भाजपा ने मध्यप्रदेश को देशभर में कलंकित किया है। ग्वालियर-चंबल की माटी वीरों की भूमि है ,बहादुरों की माटी है ,यहां के सबसे ज्यादा लोग हमारे देश की रक्षा के लिए सीमाओं पर डटे हुए हैं। यहां के लोग सब कुछ बर्दाश्त कर सकते हैं लेकिन ग़द्दारों और बिकाऊ को बर्दाश्त नहीं कर सकते है, यहां के लोग यही संदेश देश भर में देंगे।