भोपाल। प्रदेश में 15 माह तक विकास कार्य पूरी तरह ठप्प रहे, भाजपा सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं पर ताला लगा दिया। वल्लभ भवन में अधिकारियों से सौदेबाजी होती रही, बड़े अधिकारियों की पोस्टों को नीलाम किया गया। कमलनाथ-कांग्रेस ने वल्लभ भवन को दलालों की मंडी बना दिया। उन्होंने प्रदेश में आतंक और अत्याचार का राज कायम किया है। ये बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कही। वे रविवार को विधानसभा सुवासरा के गुराडिया प्रताप में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे। श्री चौहान ने आगर विधानसभा के कानड़ में सभा को संबोधित करने के पश्चात् देवास जिले के हाटपिपल्या में आयोजित रोड-शो में भाग लिया।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रावणराज में उनके दैत्यों ने वहां की प्रजा के साथ खूब अत्याचार किया। खूब आतंक मचाया। उनके राक्षसों ने ऋषि-मुनियों को मार डाला, उनको खा गए। खा-खा कर हड्डियों के बड़े-बड़े ढेर लगा दिए। ऐसी ही हालत कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में कर दी। इनके शासनकाल में लोगों के मकान अवैध बताकर तोड़े गए, बड़े-बड़े भवन गिरा दिए गए। इनके लोगों ने अवैध काम शुरू कर दिए। भाजपा के लोगों पर केस दर्ज कराकर उन्हें जेल भेजा गया। उन्होंने कहा कि इन्होंने मध्यप्रदेश को लूटने, बर्बाद करने का काम किया है। क्या था मध्यप्रदेश और हमने इसे कैसा बनाया, लेकिन इनकी सरकार में हमारी योजनाओं को बंद कर दिया गया, विकास के कार्य बंद कर दिए।


कांग्रेस क्या है, पल्ले ही नहीं पड़ रहा
मुख्यमंत्री ने कहा कि ये कांग्रेस क्या है मुझे तो पल्ले ही नहीं पड़ रहा है। एक राहुल गांधी जी की कांग्रेस है तो एक कांग्रेस श्रीमती सोनिया गांधी की हैं। मध्यप्रदेश में भी कमलनाथ-कांग्रेस बन गई है। मुख्यमंत्री बनना था तो कमलनाथ, प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ, नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, युवाओं का नेतृत्व करना है तो नकुलनाथ और बाकी कांग्रेस हो गई अनाथ। उन्होंने कहा कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने भी कांग्रेस छोड़ी थी। स्व. इंदिराजी ने भी कांग्रेस छोड़ी थी, दो कांग्रेस बन गई थी। अब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह टिकाउ-बिकाउ कर रहे हैं, लेकिन उनके भाई ने भी कांग्रेस छोड़ी थी।


इस उम्र में नहीं करनी चाहिए ऐसी टिप्पणी
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को इस उम्र में ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए, जैसी उन्होंने हमारी कैबिनेट मंत्री इमरती देवी के लिए की है। इमरती देवी कमलनाथ कैबिनेट में भी मंत्री थीं, लेकिन कमलनाथ को उनका नाम याद नहीं रहा। जब कमलनाथ की टिप्पणी पर राहुल गांधी ने भी आपत्ति की तो वे कहते हैं कि राहुल गांधी जी को किसी ने समझा दिया होगा, वे अपने नेता को भी नासमझ बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहले कमलनाथ कहते थे कि शिवराज सिंह तो नारियल लेकर चलता है और अब कह रहे हैं कि शिवराज सिंह तो नारियल का ट्रक लेकर ही चलता है। हम विकास के काम करते हैं तो नारियल फोड़ते हैं, लेकिन कमलनाथ-कांग्रेस की तो किस्मत ही फूटी है, वे क्या नारियल फोड़ते। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम दंभ, अहंकारी नहीं हैं हम तो अपनी जनता के सेवक हैं और उसकी सेवा में ही दिन-रात लगे हुए हैं। हम अपनी जनता के सामने घूटने टेककर प्रणाम करते हैं तो वे कहते हैं कि शिवराज सिंह ने तो जनता के सामने घूटने ही टेक दिए हैं।


जो कठिनाई में भी जनता का साथ दे वही नेता
मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ हमेशा पैसों का रोना रोते रहे। उनके पास मंत्री-विधायक विकास कार्यों के लिए जाते थे तो वे कहते थे कि खजाना खाली है, सब लूट ले गए, लेकिन मैं कहता हूं कि क्या हम ओरंगजेब थे, जो खजाना लूट ले गए। कमलनाथ में विकास कार्य करने की इच्छाशक्ति नहीं थी। उन्होंने कहा कि हमारे पास विकास कार्यों के लिए कभी पैसों की कमी नहीं आई। हम हमेशा प्रदेश की जनता के सुख-दुख में उसके साथ खड़े रहे और जो कठिनाइयों में भी जनता का साथ न दे, जनता को कठिनाइयों से बाहर न निकाले वह कैसा नेता, उसे राजनीति करने का ही अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि जब भी किसानों के साथ कोई कठिनाइयां आती थीं तो मेरा हेलीकाप्टर उनके खेतों में ही उतरता था, लेकिन कमलनाथ कभी भी किसानों के बीच नहीं गए। वे क्या जाने गरीब, किसानों का दर्द। उन्होंने तो विदेश, दिल्ली और छिंदवाड़ा ही देखा है।


निःशुल्क लगवाएंगे कोरोना वैक्सीन
मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी कोरोना वायरस का संकट है। कोरोना का वैक्सीन तैयार हो रहा है। वैक्सीन तैयार होने के बाद इसकी उपलब्धता के आधार पर प्रदेश के सभी लोगों को इसकी वैक्सीन निःशुल्क उपलब्ध करवाएंगे। मुख्यमंत्री ने कोरोना से बचाव के लिए मास्क लगाने की हिदायत भी दी। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिए सरकारी नौकरियों में भर्ती भी शुरू हो रही है। अभी पुलिस विभाग की भर्ती प्रक्रिया शुरू होने वाली है और जल्द ही अन्य विभागों में भर्तियां की जाएंगी। उन्होंने कहा कि हम केंद्र के सहयोग से प्रदेश में उद्योग भी लगाने की तैयारी कर रहे हैं और यहां भी स्थानीय लोगों को 75 प्रतिशत तक रोजगार उपलब्ध करवाएंगे।


कांग्रेस विकास विरोधी रही है
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सोच हमेशा से विकास विरोधी रही है। कांग्रेस के शासनकाल में विकास कार्यों पर तो ताला लगा दिया था, लेकिन हमारी चल रही योजनाओं को भी उन्होंने बंद कर दिया। उन्होंने कहा कि आगर विधानसभा में एक पुलिस की मरम्मत का कार्य हमने शुरू कराया, ताकि लोगों को परेशानियां न हों तो ये कांग्रेस उस पुरानी पुलिया के मरम्मत कार्य की शिकायत भी चुनाव आयोग में करके आ गए। ये ही कांग्रेस की सोच है। इससे पहले मुख्यमंत्री सुवासरा पहुंचे और जनसंघ के जमाने से नेता रहे भाजपा के पूर्व विधायक नानालाल पाटीदार से मिलने उनके निवास पहुंचे। इस दौरान उनके पुत्र व पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार भी उपस्थित रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कुछ पुराने किस्से भी सुनाएं।


ये रहे उपस्थित
सभाओं में मुख्य रूप से मंत्री मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक बहादुर सिंह चौहान, विधायक राणा विक्रम सिंह, दिलीप शेखावत, अम्बाराम कराड़ा, बद्रीलाल सोनी, मधु गेहलोत, संतोष जोशी, गोपाल परमार, नरेंद्र सिंह बैद्य सहित पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं आमजन मौजूद रहे।