अफगानिस्तान पैरालिंपिक टीम के दो सदस्यों को अफगानिस्तान से निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है। इंटरनेशनल पैरालिंपिक कमिटी (IPC) ने बुधवार को दोनों खिलाड़ियों के अफगान से बाहर निकाले जाने की पुष्टि की है, हालांकि ये दोनों खिलाड़ी टोक्यो में शुरू हुए पैरालिंपिक गेम्स में भाग नहीं पाएंगे। दरअसल, अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जा होने के बाद वहां अफरा तफरी का माहौल है। कई लोग अफगानिस्तान से बाहर निकलना चाहते हैं। जकिया खुदादादी और हुसैन रसौली ने टोक्यो पैरालिंपिक गेम्स के लिए ताईक्वांडों के लिए क्वालिफाई किया था। तालिबान पर कब्जा होने के बाद टोक्यो पैरालिंपिक गेम्स में अफगानिस्तान की टीम भाग नहीं ले रही है।

मंगलवार को उद्घाटन समारोह में अफगान का झंडा प्रतीकात्मक रूप से शामिल किया गया था। अफगान का झंडा लेकर एक वॉलिंटियर मार्चपास्ट में शामिल हुआ।

IPC दोनों खिलाड़ियों को अफगान से बाहर निकालने का प्रयास कर रही थी

IPC के प्रवक्ता ने बताया कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जा होने के बाद ये दोनों खिलाड़ी उन हजारों लोगों में शामिल थे, जो अफगानिस्तान से बाहर निकलना चाहते थे, पर वे वहां से निकलने में असमर्थ थे। मानवीयता के आधार पर IPC इन दोनों खिलाड़ियों को अफगानिस्तान से निकालने की कोशिश कर रही थी। अब ये दोनों खिलाड़ी अफगानिस्तान से निकाल लिए गए हैं और सुरक्षित स्थान पर हैं। ये पैरालिंपिक गेम्स में भाग नहीं ले सकेंगे, क्योंकि मानसिक रूप से ये इसके लिए तैयार नहीं हैं। प्रवक्ता ने कहा कि ये दोनों खिलाड़ी कहां है, इसकी जानकारी वे नहीं दे सकते हैं।

जकिया खुदादादी ने अफगानिस्तान से बाहर निकालने लिए किया था अनुरोध

जकिया पैरालिंपिक गेम्स में अफगानिस्तान का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली महिला होतीं। उन्होंने अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जा होने के बाद देश से बाहर निकालने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद करने की गुहार लगाई थी। ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टर ABC के अनुसार दोनों खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया सरकार की ओर से अफगानिस्तान से बाहर निकालने गए सदस्यों में शामिल थे, हालांकि किसी ने इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

4537 खिलाड़ी ले रहे हैं भाग

बार टोक्यो पैरालिंपिक्स में रिकॉर्ड 4,537 खिलाड़ी शामिल हो रहे हैं। इसका पिछला रिकॉर्ड 4,328 खिलाड़ियों के भाग लेने का था, जो रियो 2016 में बना था। 13 दिनों के दौरान 22 खेलों के कुल 539 इवेंट होंगे। भारत की ओर से 54 खिलाड़ी अलग-अलग इवेंट में अपनी किस्मत आजमाए रहे हैं।