इंदौर. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women's Day) के दिन एक महिला आरक्षक (woman constable) ने सब इंस्पेक्टर (sub-inspector) पर बलात्कार (rape) का मामला दर्ज कराया है. रेप केस दर्ज होने के बाद सब इंस्पेक्टर फरार हो गया. दरअसल इंदौर के तेजाजी नगर थाना पुलिस ने एक महिला कॉन्स्टेबल की शिकायत पर उपनिरीक्षक रितेश नागर के विरुद्ध बलात्कार का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. केस दर्ज होने के बाद तेजाजी नगर थाना पुलिस ने जगह जगह छापेमारी की, लेकिन बलात्कार का आरोपी सब इंस्पेक्टर हाथ नहीं आया.

खुद को अविवाहित बता कर बनाए थे संबंध

इस महिला आरक्षक ने सब इंस्पेक्टर रीतेश नागर के खिलाफ तेजाजी नगर थाना पुलिस और वरिष्ठ अधिकारियों से लिखित शिकायत की थी. बताया जाता है कि कुछ समय पहले महिला आरक्षक और सब इंस्पेक्टर की मुलाकात हुई थी. उस वक्त नागर इंदौर में पदस्थापित था. महिला कॉन्स्टेबल पहले से ही इंदौर में पदस्थ थी. वहीं दोनों के बीच परिचय हुआ और धीरे-धीरे दोनों के बीच प्रेम संबंध बने. इस दौरान सबइंस्पेक्टर ने महिला आरक्षक से विवाह का वादा किया और दोनों साथ में रहने लगे. साथ रहने के दौरान दोनों के बीच कई बार शारीरिक संबंध बने. कुछ समय जब बाद जब महिला आरक्षक ने शादी के लिए सब इंस्पेक्टर पर दबाब डाला तो वह टालने लगा. इसके कुछ समय बाद उसने अपना तबादला मंदसौर करवा लिया. धीरे-धीरे उसने संबंध भी खत्म कर लिए.

रेप का मामला दर्ज


बहरहाल युवती ने जब जानकारी जुटाई तो पता चला कि उपनिरीक्षक पहले से शादीशुदा है और उसके बच्चे भी हैं. इसके बाद ही महिला आरक्षक ने तेजाजी नगर थाना पुलिस को लिखित शिकायत की. पुलिस ने युवती की शिकायत के बाद बलात्कार की धरा 376 के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है.

सब इंस्पेक्टर के बारे में पुलिस मुख्यालय को बताया जाएगा

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शशिकांत कनकने के मुताबिक, तेजाजी नगर थाना इलाके में रहने वाली एक युवती ने शिकायत की थी. शिकायत पर आरोपी के विरुद्ध प्रकरण दर्ज कर लिया है. आरोपी पूर्व में इंदौर में ही बतौर सबइंस्पेक्टर पदस्थ रह चुका है. दोनों के बीच प्रेम संबंध थे. आरोपी ने खुद को अविवाहित बताकर विवाह का वादा कर शोषण किया है. आरोपी की गिरफ्तारी के लिए अलग-अलग टीम रवाना की गई है. फिलहाल आरोपी के बारे में जानकारी नहीं मिली है. उसके इस कृत्य के बारे में पत्र लिखकर पुलिस मुख्यालय को सूचना दी जाएगी.