नई दिल्ली,संशोधित नागरिकता कानून, दिल्ली हिंसा और हथियार डील जैसे विभिन्न मुद्दों पर भारत की आलोचना कर रहे देशों और लोगों को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कड़ा जवाब दिया है। एस जयशंकर ने साफ कहा कि अब देश को पता चल रहा है कि असल में उसका दोस्त कौन है। विदेश मंत्री ने यह बात ईरान और अमेरिका के कुछ नेताओं को निशाने पर रखकर कही है।

अब दोस्तों को पहचान रहे: जयशंकर
एस जयशंकर से ग्लोबल बिजनस समिट में एक सवाल पुछा गया था कि क्या भारत अपने दोस्त (वैश्विक स्तर पर) खो रहा है? यहां सवाल कर रहे शख्स ने ईरान और अमेरिका की विपक्षी पार्टी डेमोक्रेट्स का नाम लेकर कहा कि दोनों विभिन्न मुद्दों पर भारत से नाराजगी जता रहे हैं। इसपर जयशंकर ने जवाब दिया, 'शायद अब देश समझ रहा है कि हमारे असल दोस्त कौन हैं।'

कार्यक्रम में जयशंकर ने सीएए पर भी बात की। वह बोले कि हर कोई नागरिकता को एक संदर्भ में देखता है, मुझे कोई भी ऐसा देश बताइए जो कहता हो कि दुनिया के हर व्यक्ति का वहां स्वागत है।

बता दें कि नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला खामनेई ने बयान दिया था। उन्होंने ट्वीट किया था कि भारत में मुस्लिमों के नरसंहार से दुनियाभर के मुस्लिमों का दिल दुखी है। भारत सरकार को कट्टर हिंदुओं और उनकी पार्टियों को रोकना चाहिए। भारत इस्लामिक देशों से अलग-थलग न हो जाए, इसके लिए मुस्लिमों का नरसंहार रोकना चाहिए।' इसके अलावा जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने, संशोधित नागरिकता कानून आदि पर अलग-अलग देशों ने विरोध जताया था।

पहले क्षमताएं कम थीं, अब तरीका बदला: जयशंकर
जयशंकर ने आगे कहा कि पहले भारत डिफेंस पर रहता था। पहले क्षमताएं कम थीं, जोखिम ज्यादा थे। लेकिन अब चीजें बदली हैं। भारत पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और जल्द तीसरी होगी। अब देशों के हित एक-दूसरे से जुड़े हैं। ऐसे में भारत ने अपनी बात दुनिया के सामने रखने का तरीका बदला है।