मुंबई,लॉकडाउन में बेटी अनायरा को कुछ यूं संभाल रहे हैं कपिल शर्मा, कॉमेडियन की ये ट्रिक्स आ सकती है आपके कामइस समय पूरे देश में लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है। कुछ लोग तो ऐसे हैं जिन्हें कई महीनों-सालों बाद अपनों के साथ इस तरह वक्त बिताने का मौका मिला है। लेकिन लॉकडाउन में भी ‘वर्क फ्रॉम होम’ वाले कॉन्सेप्ट ने हमारा पीछा नहीं छोड़ा। इतने सालों बाद मिले इस वक्त को हमें एन्जॉय भी करना है, लेकिन ऑफिस के काम के साथ-साथ। ऐसे में हम तो दिन भर काम में खुद को बिजी रखकर अपना समय काट लेते हैं, लेकिन इस बीच बच्चों का क्या। अगर आपका बच्चा बड़ा है तो आपके लिए यह कोई परेशानी की बात नहीं है, अगर वही छोटा है तो हम समझ सकते हैं कि आपको काम के साथ-साथ कितनी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा होगा। लेकिन इस परेशानी से बाहर निकलने में मशहूर कॉमेडियन कपिल शर्मा आपकी मदद कर सकते हैं।
... तो ये हैं शर्मा जी के टिप्स
 कॉमेडियन कपिल शर्मा पिछले साल दिसंबर में ही पिता बने हैं। उनकी पत्नी गिन्नी चतरथ ने दिसंबर में प्यारी- सी बेटी को जन्म दिया था, जिसका नाम अनायरा है। कोरोना वायरस के चलते कपिल भी अपनी नन्हीं परी के साथ समय बिता रहे हैं। हाल ही में एक इंस्टाग्राम पर लाइव चैट के दौरान कपिल ने इस बात को अपने फैंस के साथ शेयर किया था कि वो कैसे अपनी लाडली का ख्याल रख रहे हैं। जब कपिल से पूछा गया कि वह कैसे अपनी बेटी का ध्यान रख रहे हैं? तो उन्होंने बताया कि वह अनायरा के साथ इस समय बच्चे बने हुए हैं, वो हर पल उसके साथ बिता रहे हैं। ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं कपिल शर्मा की वो ट्रिक्स, जिन्हें अपनाकर आप भी अपने लाडले-लाडली के साथ हर पल को एन्जॉय कर सकते हैं।

बच्चों के साथ एक्टिविटी
 हम सभी इस बात को अच्छे से जानते हैं कि ऑफिस का काम नियमित तरीके से चलता रहे, इसके लिए हर एक एम्प्लॉय को वर्क फ्रॉम होम दिया गया है। लेकिन काम के चलते ऐसा न हो कि आप अपने बच्चों पर ध्यान देना ही भूल जाएं। जी हां, अपने काम से थोड़ा- सा समय निकालकर बच्चों के साथ कुछ एक्टिविटी करें और उनके साथ भी थोड़ा समय बिताएं। सोचिए लॉकडाउन के बाद आपको यह समय फिर कहां मिल पाएगा। इस बात का अहसास कीजिए और बच्चों के साथ वक्त बिताने के बहाने ढूंढिए।

हर दिन कुछ नया सिखाएं
 लॉकडाउन में समय को बर्बाद करने की बजाए अपने बच्चों को हर दिन कुछ नया सिखाएं। इस काम में यूट्यूब-फेसबुक या कोई लर्निंग ऐप आपकी मदद कर सकता है। अपने बच्चों को घर में पड़ी पुरानी चीजों को रीसाइकिल करने को दें। यही नहीं, उनके साथ क्राफ्ट बनाने के आइडिया भी शेयर करें। अगर बच्चों को कलरिंग करना पसंद है तो आप उन्हें हर रोज कुछ न कुछ नया बनाने को भी कह सकते हैं।

एजुकेशनल ऐप को करें शामिल
 वैसे तो बच्चों के हाथ में मोबाइल देख मां-बाप को मिर्ची लगनी शुरू हो जाती है, लेकिन जब बात ऑफिस के काम की हो तो तब क्या बुराई। लेकिन इसके लिए करना आपको इतना है कि आप आपने बच्चे को मोबाइल तो दें लेकिन उसमें किसी एजुकेशनल ऐप प को इंस्टाल करना न भूलें। ऐसे में बच्चे जब भी मोबाइल देखेंगे, उन्हें कुछ न कुछ सीखने को मिलेगा।