कर्क राशि के लोग बहुत भावुक, दयालु और संवेदनशील होने के साथ-साथ वफादार व दूसरों से सहानुभूति भी रखते हैं। इस राशि के लोग बहुत कल्पनाशील होते हैं और सपनों के जाल भी बुनते रहते हैं। ये बाहर से भले ही सख्त दिखने की कोशिश करें लेकिन दिल से काफी नर्म और स्वभाव से सौम्य होते हैं।

बुद्धिमान व कूटनीति में माहिर होते हैं। टकराव से बचने में फुर्तीलापन दिखाते हैं। तीक्ष्ण बुद्धि और स्मरण शक्ति गजबकी होती है। कई ज्योतिषियों की राय में इस राशि वाले लोग सबसे केयरिंग पार्टनर साबित होते हैं। ये हर मुमकिन कोशिश करते हैं कि अपने पार्टनर को स्पैशल फील करा सकें। इसके बदले ये अपने पार्टनर से भी काफी उम्मीदें रखते हैं इसलिए ये अपने रिश्ते में काफी इमोशनल होते हैं और छोटी-छोटी बातों को दिल पर ले लेते हैं।

कर्क राशि के जातक आदर्श जीवन साथी साबित होते हैं। ऐसे लोग अपनी फैमिली को लेकर अति सक्रिय होते हैं। ये प्रकृति प्रेमी होते हैं। लेकिन कई बार इन्हें ऐसा महसूस होता है कि इनका साथी इनकी भावनाओं को नहीं समझ पा रहा है।

कई ज्योतिॢवदों का मानना है कि इस राशि के जातक कल्पनाशील होते हैं। शनि-सूर्य जातक को मानसिक रूप से अस्थिर बनाते हैं और जातक में अहं की भावना बढ़ाते हैं। जिस स्थान पर भी वह कार्य करने की इच्छा करता है, जातक को परेशानी ही मिलती है। शनि-बुध दोनों मिलकर जातक को होशियार बना देते हैं। शनि-शुक्र जातक को धन और जायदाद देते हैं।

शुक्र उसे सजाने-संवारने की कला देते हैं और शनि अधिक वासना देता है। जातक अच्छा उपदेशक बन सकता है। जातक को बुध आंकड़े और शनि लिखने का प्रभाव देते हैं। कम्प्यूटर आदि का प्रोग्रामर बनाने में जातक को सफलता मिलती है। जातक श्रेष्ठ बुद्धि वाला, जलविहारी, कामुक, कृतज्ञ, ज्योतिषी, सुगंधित पदार्थों का सेवी और भोगी होता है वह मातृभक्त होता है।

इस राशि का चिन्ह केकड़ा है और यह उत्तर दिशा का द्योतक है। यह चर राशि है। राशि स्वामी चंद्रमा है। इसके अंतर्गत पुनर्वसु नक्षत्र का अंतिम चरण, पुष्य नक्षत्र के चारों चरण तथा अश्लेषा नक्षत्र के चारों चरण आते हैं।

कर्क (केकड़ा) जब किसी वस्तु या जीवन को अपने पंजों में जकड़ लेता है, तो उसे आसानी से नहीं छोड़ता है। भले ही इसके लिए उसे अपने पंजे गंवाने पड़ें, उसी तरह जातकों में अपने प्रेम पात्रों तथा विचारों से चिपके रहने की प्रबल भावना होती है, यह भावना उन्हें ग्रहणशील, एकाग्रता और धैर्य के गुण प्रदान करती है।

उनका मूड बदलते देर नहीं लगती है। कल्पनाशक्ति और स्मरण शक्ति बहुत तीव्र होती है। उनके लिए अतीत का महत्व होता है। मैत्री को वे जीवन भर निभाना जानते हैं, अपनी इच्छा के स्वामी होते हैं। ये सपना देखने वाले, परिश्रमी और उद्यमी होते हैं। जातक बचपन में प्राय: दुर्बल होते हैं किंतु आयु के साथ-साथ उनके शरीर का विकास होता जाता है।

चूंकि कर्क कालपुरुष की वक्षस्थल और पेट का प्रतिनिधित्व करती है, अत: जातकों को अपने भोजन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।