कोरबा  जिले के प्रभारी मंत्री डाॅ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड अस्पताल कोरबा में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीजों से बात की और अस्पताल में इलाज के साथ-साथ मरीजों की तबियत और हाल-चाल पूछा। उन्होंने अस्पताल में भर्ती मरीजों से सीधे बात कर इलाज की व्यवस्थाओं, डाॅक्टर एवं नर्सिंग स्टाफ द्वारा देखरेख का सीधा फीडबैक लिया। डाॅ. टेकाम ने आज जिले में कोविड नियंत्रण के लिये किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा के लिये महत्वपूर्ण बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा आयोजित की थी और इसी समीक्षा बैठक के दौरान उन्हांेने अस्पताल में भर्ती मरीजों से बात की। प्रभारी मंत्री ने आत्मीय रूप से सहज बोलचाल में मरीजों की तबियत पूछी तथा अस्पताल में दी जा रही सुविधाआंे और नर्सिंग स्टाफ द्वारा मरीजों की देखभाल की जानकारी भी ली। उन्होंने कोविड अस्पताल के मरीजों से उनकी स्वास्थ्य जानकारी, इलाज की सुविधा, डाॅक्टरों द्वारा किये जा रहे देखभाल, नाश्ता, भोजन, पानी सहित दवाओं एवं अन्य जरूरी चीजों की आपूर्ति के बारे में भी पूछा। डाॅ. टेकाम ने मरीजों के जल्द स्वस्थ होने की कामना भी की। डाॅ. टेकाम ने इस दौरान आॅक्सीजन सपोर्ट में इलाज करा रहे मरीज से भी उनके स्वास्थ्य का हाल-चाल जाना।
वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मरीजों से जुड़े डाॅ. टेकाम ने मरीज अहिल्या जायसवाल से पूछा कि कब से वे भर्ती है ? इलाज की क्या-क्या सुविधायें अस्पताल में मिल रही है ? भोजन की क्वालिटी कैसी है ? कैसा डाॅक्टरों द्वारा निरंतर देखभाल किया जा रहा है या नहीं ? श्रीमती जायसवाल ने प्रभारी मंत्री को बताया कि वे पिछले आठ दिनों से कोविड अस्पताल में भर्ती हैं। कोविड अस्पताल के नर्स-डाॅक्टर दिन में दो-तीन बार देखने, मिलने तथा हालचाल पूछने आते हैं। श्रीमती जायसवाल ने कोविड अस्पताल में मिल रही स्वास्थ्य सुविधाओं और डाॅक्टरों द्वारा किये जा रहे देखभाल से संतुष्टि जताई। डाॅ. टेकाम ने कोविड अस्पताल में भर्ती मरीज श्री लल्लू सिंह से उनकी तबियत तथा अस्पताल में साफ-सफाई की व्यवस्था के बारें में भी जानकारी ली। वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से श्री लल्लू सिंह ने बताया कि सांप काटने के कारण इलाज के लिये जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां इलाज के लिये डाॅक्टरों द्वारा कोरोना जांच कराने पर रिपोर्ट पाॅजिटिव आई थी और उन्हें कोविड अस्पताल में शिफ्ट किया गया था। श्री लल्लू सिंह ने बताया कि कोविड अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज की बेहतर सुविधा है तथा पर्याप्त मात्रा में दवाई दी जा रही है। डाॅक्टर-नर्स समय-समय आकर पर स्वास्थ्य की जांच करते रहते हैं तथा कोई भी समस्या होने पर तुरंत मदद की जाती है। श्री लल्लू सिंह ने बताया कि कोविड अस्पताल में साफ-सफाई घर से भी बेहतर है।
डाॅ. टेकाम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से कोविड अस्पताल में आईसीयु वार्ड में आॅक्सीजन सपोर्ट में इलाज करा रहे मरीज से भी बात की। मरीज रमाकांत थवाईत ने बताया कि अस्पताल में भर्ती के पहले डिहाइड्रेशन के कारण शरीर में पानी की कमी हो गयी थी, शरीर में बहुत ज्यादा बुखार आ रहा था जो कि कंट्रोल ही नहीं हो पा रहा था। उन्होंने बताया कि कोविड अस्पताल आने के बाद डाॅक्टरों द्वारा दिये गये बेहतर इलाज से बुखार और डिहाइड्रेशन की समस्या दूर हो गयी है जिसके कारण अब मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं। श्री रमाकांत ने बेहतर इलाज और देखभाल के लिये सभी भर्ती मरीजों की ओर से अस्पताल के डाॅक्टरों और नर्सों को धन्यवाद भी दिया। मरीजों ने जिले में ही कोरोना के इलाज के लिये सुसज्जित और प्राणरक्षक उपकरणों से लैस अस्पताल स्थापित करने के लिये कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल और स्वास्थ्य विभाग के प्रति भी आभार जताया।
वीडियो कांफ्रंेसिंग के माध्यम से मरीजों ने प्रभारी मंत्री को कोविड अस्पताल में दिये जा रहे इलाज की सुविधाओं, खानपान एवं साफ-सफाई की व्यवस्था को बेहतर बताया। मरीजों ने डाॅक्टरों सहित सभी मेडिकल टीम द्वारा किये जा रहे सेवाओं को बेहतर माना तथा कोविड अस्पताल की स्वास्थ्य सुविधाओं से संतुष्टि जताई। जिले के कोविड अस्पताल में बेहतर इलाज किये जाने के कारण कोरोना संक्रमित मरीज तेजी से ठीक हो रहे हैं। कोरबा के कोविड अस्पताल में आज तक 717 संक्रमितों को भर्ती किया जा चुका है जिसमें से 628 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। अस्पताल में मरीजों की रिकवरी कुल भर्ती मरीजों के हिसाब से साढ़े 87 प्रतिशत से अधिक है। अभी तक अस्पताल में गंभीर रूप से बीमार केवल 10 मरीजों की ही मौत हुई है। आज अस्पताल में 69 मरीज भर्ती हैं जिनका इलाज तेजी से चल रहा है। प्रभारी मंत्री डाॅ. टेकाम ने कोविड अस्पताल में दिये जा रहे उत्कृष्ट योगदान के लिये सभी डाॅक्टरों-नर्साें और मेडिकल टीम का आभार माना तथा सभी मरीजों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना की