कोटा: जी राजस्थान के चलाए गए 'ऑपरेशन गुड़िया' का इंम्पैक्ट लगातार देखने को मिल रहा है. इस दौरान प्रदेश में पुलिस मशीनरी हरकत में आती दिख रही है. इस मामले में संलिप्त रहने वाले समाजकंटकों और पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई तेज हो गई है.

स्टिंग के सामने आने के बाद पुलिस ने मामले में 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा दो लड़कियों को रेस्क्यू भी किया गया है.

पुलिसकर्मियों पर हुई कार्रवाई
पूरे ख़ुलासे के बाद सबसे पहले पुलिस मशीनरी ने स्टिंग में कैद हुए हनुमान नगर थाने के हेड कांस्टेबल अशोक सोनी को निलंबित किया. साथ ही हनुमान नगर थाने के एसएसओ को लाईन हाज़िर कर दिया. इसके अलावा प्रदेश के डीजीपी भूपेन्द्र यादव ने विशेष टीम बनाई है. जिसमें डीआईजी नितिनदीप ब्लग्गन और एसपी (सीआईडी-सीबी) मोनिका सेन शामिल हैं. 
स्टिंग के सामने आने के बाद पुलिस टीम स्टिंग के दौरान दिखाए गए उन सभी स्थानों पर पहुंच गई. जहां जी मीडिया ने ऑपरेशन गुड़िया में जिस्म की मंडिओं की काली हकीकत को उजागर किया था.

राजस्थान पुलिस एक्शन मोड में
प्रदेश के डीजीपी के निर्देश पर पुलिस ने बड़े स्तर पर छापेमारी की कारवाई की. इस दौरान कार्रवाई को लेकर भीलवाड़ा और अजमेर के ज़िला कलेक्टरो को भी सूचना दी गई. इसके अलावा शेल्टर होम व्यवस्था करने के लिए भी कलेक्टर को सूचित किया गया. इसके अलावा पुलिस ने एक साथ भीलवाड़ा, अजमेर, बूंदी में शुरू कर दी.

सरकार भी आई हरकत में
जी मीडिया के ख़ुलासे के बाद महिला बाल विकास मंत्री ममता भूपेश ने पूरे मामले को बेहद गम्भीरता से लिया. उन्होंने इस मामले में कार्रवाई की बात कही. वहीं, एसीएस (होम) राजीव स्वरूप के मामले को लेकर जांच और कार्रवाई करने के बयान पर राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने इसका वीडियो मांगा है.


पीड़ित गुड़िया को मिला न्याय का रास्ता
जिस गुड़िया की हक़ीक़त को हम सामने लेकर आए उसे अब न्याय मिलने की उम्मीद जग गई है. पुलिस ने गुड़िया पर हुए ज़ुल्म के आरोपियों के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज की है. इस दौरान भीलवाड़ा के हनुमान नगर थाने में एफआईआऱ दर्ज की गई. इस दौरान 8 धाराओं में आरोपियों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज हुआ है. पुलिस सूत्रों के अनुसार, आरोपियों के खिलाफ धारा 323, 342, 313, 376, 370, 366, 372, 363 में मामला दर्ज हुआ है.

दो लड़कियां हुईं रेस्क्यू
भीलवाड़ा आपरेशन गड़ियाँ का असर ये हुआ की पुलिस की कारवाई में दो बेटियों को पुलिस ने . पुलिस दोनो के बयान दर्ज कर कारवाई की तैयारी कर रही है . इसमें से एक की उम्र केवल 12 साल है. बताया जा रहा है कि इस नाबालिग को अपहरण कर यहां लाया गया था.
पुलिस गिरफ़्त में मास्टर माइंड
मामला सामने आने के बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी आजाद और उसकी पत्नी संपती को गिरफ्तार कर लिया है. इन दोनों को बारां के छबड़ा थाना इलाक़े के बटावद ख़ुर्द से पकड़ भीलवाड़ा ले जाया गया है. जहां पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है. माना जा रहा है कि पूछताछ के दौरान गिरोह से जुड़े लोगों के साथ ही सभी आरोपियों का चेहरा सामने आ सकता है.

सोशल मीडिया पर छाया 'ऑपरेशन गुड़िया'
ऑपरेशन गुड़िया के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर इसकी मजकर चर्चा हुई. इस दौरान देह धंधे में लिप्त आरोपियों की गिरफ्तारी की भी मांग की गई. प्रदेश के लोगो ने जी मीडिया के इस स्टिंग ऑपरेशन की सराहना भी की.