वाशिंगटन । वैश्विक आर्थिक निगरानी करने वाली संस्था अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने कहा है कि दुनिया की ज्यादातर बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले चीन में पुनरूद्धार तेजी से हो रहा है लेकिन यह अभी भी असंतुलित है और इसके नीचे जाने का जोखिम बना हुआ है। मुद्राकोष ने 2021 में दुनिया की इस दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में 8 प्रतिशत वृद्धि दर का अनुमान जताया है। आईएमएफ के चीन के लिये मिशन प्रमुख और सहायक निदेशक (एशिया और प्रशांत विभाग) हेल्गे बर्गर ने कहा कि चीन में पुनरूद्धार को लेकर चिंता का कारण उसका संतुलित नहीं होना है। चीन से जुड़ी एक रिपोर्ट के प्रकाशन के मौके पर उन्होंने ‘कांफ्रेन्स कॉल’ के दौरान संवाददाताओं से कहा कि पुनरूद्धार अभी भी सार्वजनिक समर्थन पर आश्रित है। हाल में निजी निवेश बढ़ा है लेकिन खपत कम बनी हुई है। वृद्धि दर और खपत हाल में ऊंची रही है, लेकिन खपत की प्रवृत्ति संकट पूर्व स्थिति की तुलना में अभी भी कम है। बर्गर ने कहा, ‘चीन में अन्य बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले तेजी से पुनरूद्धार हो रहा है। लेकिन पुनरूद्धार असंतुलित है और इसके नीचे जाने का जोखिम बना हुआ है। हमारा अनुमान है कि 2020 में वृद्धि दर करीब 2 प्रतिशत और 2021 में 8 प्रतिशत होगी। दिसंबर का आंकड़ा अच्छा रहा, ऐसे में कुल आंकड़ा ऊपर जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि लेकिन इसके नीचे जाने का जोखिम ज्यादा है। घरेलू स्तर पर महामारी का जोखिम अभी भी बना हुआ है। साथ ही वैश्विक परिवेश और अन्य देशों के साथ उसके आर्थिक संबंध भी चीन के लिये थोड़े मुश्किल बने हुए हैं।’