उज्जैन. आचार्य चाणक्य महान विचारक थे। उन्होंने अपनी नीतियों के बल पर एक साधारण से युवक चंद्रगुप्त को भारत का सम्राट बना दिया था। चाणक्य के अनुसार, धन कमाने के लिए व्यक्ति को हमेशा चार चीजों को प्राथमिकता देनी चाहिए। ये चार चीजें इस प्रकार हैं -

न करें लापरवाही
कार्य व्यापार में सफलता के लिए सबसे पहली प्राथमिकता यही होनी चाहिए कि अपने कर्म के प्रति वफादारी। यदि आप अपने काम लेकर गंभीर नहीं होंगे और लापरवाही से कार्य करेंगे तो आप उस कार्यक्षेत्र में कभी भी तरक्की नहीं कर पाएंगे। इससे आपके पास धन नहीं आएगा। जो लोग अपने कार्य व्यापार की तरक्की से जुड़े मुद्दों को कल पर टालते हैं और दिन-प्रतिदिन अपने व्यवसाय को बढ़ाने की कोशिश नहीं करते हैं उन्हें जीवन पैसों की कमी के साथ व्यतीत करना पड़ता है।

कठिन परिश्रम के लिए रहें तैयार
व्यक्ति को अपनी मंजिल को पाने के लिए कठिन परिश्रम से कतई भी घबराना नहीं चाहिए। आलसी लोग सदैव ही अपने भाग्य को कोसते दिखाई देते हैं, लेकिन मेहनती लोग अपना भाग्य स्वयं बनाते हैं। अधिक धन कमाने वाला व्यक्ति हमेशा मानसिक या शारीरिक मेहनत के लिए तैयार रहता है। आपकी यही कोशिश होनी चाहिए कि आप जो पाना चाहते हैं उसके लिए मेहनत करने के लिए भी तैयार रहें।

धार्मिक कार्यों को दें महत्व
कई बार ऐसा होता कि हमारी लाख कोशिशों के बाद भी धन लाभ नहीं हो पाता है। धन का आगमन तो होता है परंतु पैसा बचता नहीं है। ऐसी स्थिति में जातकों को धार्मिक कार्यों में रुचि लेनी चाहिए। आचार्य चाणक्य यह मानते थे कि परिश्रम के साथ-साथ किस्मत भी व्यक्ति के जीवन में खास भूमिका अदा करती है। इसलिए जातकों को अपने सोए भाग्य को जगाने के लिए कर्म के साथ-साथ धर्म पर विश्वास रखना चाहिए।

सोच-समझकर लें फैसले
वह व्यक्ति बेहद ही सफल माना जाता है जो हमेशा अपने निर्णय सोच-समझकर लेता है। अनुभवी लोगों की सलाह लेकर कार्य करने वाला व्यक्ति हमेशा अच्छे परिणाम पाता है। इसलिए धन से जुड़े मामलों को बेहद ही सोच-समझकर लेना चाहिए। खासकर अगर आप कमाए हुए धन को खर्च कर रहे हैं तो उसके बारे में आपको बहुत ही सोच-समझकर कदम उठाने चाहिए। क्योंकि पैसा खर्च करना बहुत आसान काम है लेकिन कमाना उतना ही मुश्किल होता है।