अगर आप प्राकृतिक और आध्यात्मिकता प्रदान करने वाली जगहों की तलाश कर रहे हैं तो आप बिहार में स्थित कटिहार की सैर कर सकते हैं।  

जब भी घूमने की बात आती है, तो लोग अक्सर हिल स्टेशन घूमने का प्लान करते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि बिहार में स्थित कटिहार में भी कई ऐसे खूबसूरत पर्यटन स्थल है, जहां पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। कटिहार अपने प्राकृतिक और आध्यात्मिक महत्व के लिए जाना जाता है। अगर आप घूमने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो कटिहार जा सकते हैं। यहां आपको घूमने के साथ-साथ शांत वातावरण मिलेगा। 

 गोगा झील

बिहार की सबसे बड़ी और खूबसूरत स्थलों में गोगा झील भी आती है। जहां बड़ी संख्या में पर्यटक घूमने आते हैं। यह झील लगभग 5 किमी 217 एकड़ में फैली हुई है। गंगा और महानदी से सीधे जुड़े होने के कारण, झील इन नदियों को बरसात के मौसम में सहायक नदियों के माध्यम से जोड़ती है। कई प्रकार के स्थलीय, जलीय जंतु और पक्षी इस स्थान पर आते हैं। समृद्ध वनस्पतियों और जीवों के साथ, इसे राष्ट्रीय उद्यान के रूप में देखा जा सकता है।

काली मंदिर

काली मंदिर का अत्यधिक ऐतिहासिक महत्व है। यह  मंदिर देवी काली  को समर्पित है, यहां भगवान की मूर्ति को बेहद खूबसूरती से सजाया जाता है। इस मंदिर की खूबसूरती ही पर्यटकों को आकर्षित करती है। यहां की दीवारों पर आकर्षक कलाकृतियां और वास्तुकला ही इसके पुरातात्विक महत्व को बखूबी दर्शाती हैं। दुर्गाष्टमी और दिवाली जैसे त्योहारों के समय, मंदिर में पूजा समारोह के लिए बड़ी संख्या में भक्त आते हैं और पूजा करते हैं।

बागी मठ

बागी गांव में स्थित बागी मठ भी पर्यटकों का पसंदीदा स्थल है। यह जगह उन लोगों के लिए बेस्ट है, जो दुनिया के शोर शराबे से कुछ दिन दूर रहना चाहते हैं। यहां पर्यटक गहन भक्ति, आध्यात्मिकता और विश्वास को महसूस कर सकते हैं। यह अपने 108 कमरों के लिए जाना जाता है, जो विभिन्न आध्यात्मिक गतिविधियों के लिए बनाए गए हैं। यदि आप अपने मन को मुक्त करने और अपने आध्यात्मिक स्तर को बढ़ाने के लिए कुछ दिनों की छुट्टी लेना चाहते हैं, तो आप यहां जाने का प्लान बना सकते हैं।

रामकृष्ण मिशन आश्रम

1925 में प्लेग और मलेरिया के रोगियों को राहत प्रदान करने के लिए रामकृष्ण मिशन आश्रम बनाया गया था। उसके बाद,यह धीरे-धीरे खुद को एक छोटे से मंदिर में स्थापित कर लिया। मंदिर बनने के बाद यह केंद्र रामकृष्ण मिशन के सबसे सक्रिय केंद्रों में से एक बन गया है। " शिव की पूजा के रूप में जीव की सेवा " की भावना में कार्य करते हुए, यह आधुनिक मुहावरे में प्राचीन वेदों के सिद्धांतों को व्यक्त करता है। यहां देश के विभिन्न हिस्सों से श्रद्धालु पूजा करने आते हैं। आप भी यहां पूजा करने के लिए जा सकते हैं।