कई बार ऐसा होता है कि हम बहुत मेहनत करते हैं. लेकिन हमें अपनी मेहनत की के हिसाब से फल नहीं मिलता. हर आप जी तोड़ कोशिश कर रहें हैं और आपको सफलता नहीं मिल पा रही है तो ऐसा भी हो सकता है कि आपके घर का कोई वास्तु दोष भी जिम्मेदार हो सकता है. कई बार कई चीजों को हम गंभीरता से नहीं लेते लेकिन जीवन मे वह बेहद गहरा असर डालती हैं. जानिए कुछ वास्तु शास्त्र के उपायों के बारे में जीवन को सुधार सकती है.

वास्तु शास्त्र कहता हैं कि खंडित यानी टूटी हुई मुर्तियां घर पर नहीं रखना चाहिए. इससे नकारात्मक उर्जा को आकर्षित करने वाला बताया गया है. यहीं कारण है कि घर के बड़े बुजुर्ग खंडित मूर्ति रखने से मना करते है. खंडित मूर्तियां घर में दुर्भाग्य को आकर्षित होता है.

घर में साफ-सफाई रहना बेहद जरूरी है. इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह रहता है. वहीं हिंदु धर्म में भी इस बात का जिक्र मिलता है कि अगर घर में गंदगी हो तो लक्ष्मी मां से रुठ जाती हैं. जिससे भी जीवन में अफलताओं का समना करना पड़ता है.

कई बार लोग बीजली बचाने के लिए लाइट ऑफ कर देते हैं. ये अच्छी आदत है. लेकिन वास्तु शास्त्र के मुताबिक, शाम के वक्त घर के हर कोने में प्रकाश होना चाहिए. कहते है कि शाम के समय सभी देवी देवता पूरी पृथ्वी का विचरण करते हैं, ऐसे में यदि घर में अंधेरा हो तो घर के निवासियों को देवी देवाताओं का आशीर्वाद नहीं मिल पाता हैं जिससे जीवन में सफलता कम मिल पाती है.

हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे का एक अलग ही धर्मिक महत्व है. वहीं तुलसी जी को भगवान विष्णु के ही एक रूप शालिग्राम की पत्नी माना जाता है. साथ ही वास्तु शास्त्र में भी घर में तुलसी के पौधे के बेहद महत्व है. वास्तु शास्त्र में भी घर में तुलसी के पौधे का पेड़ रखने का महत्व बताया गया है. तुलसी के अनुसार, घर में तुलसी का पौधा रखने में सकारात्म ऊर्जा बनी रहती है. लेकिन हमेशा इस बात का ख्याल रखना होगा कि पौधा हमेशा हरा भरा और उसकी देखभाल होती रहे.