दुबई । अंतरराष्ट्री क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने कोरोना वायरस महामारी संक्रमण को देखते हुए गेंद पर लार के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है। इससे पहले अनिल कुंबले की अध्यक्षता वाली आईसीसी क्रिकेट समिति ने लार पर प्रतिबंध की सिफारिश की थी। वहीं कई पूर्व गेंदबाजों ने कहा था कि लार को कोई विकल्प देना चाहिये पर आईसीसी ने उससे भी इंकार कर दिया है। इससे साफ है कि अब गेंदबाजों को गेंद में चमक लाने के लिए लार की जगह पर पसीने का इस्तेमाल करना होगा। आईसीसी ने कहा है कि कोई खिलाड़ी अगर गेंद पर लार लगाता है तो उसे और टीम को दो बार चेतावनी दी जाएगी। वहीं अगर इसके बाद भी खिलाड़ी ऐसा करते हैं तो विरोधी टीम को पांच रन अतिरिक्त दे दिये जाएंगे. आईसीसी ने सभी टीमों को कोरोना वायरस होने पर किसी खिलाड़ी को बदलने का भी विकल्प दिया है। इसका मतलब यह है कि अगर टेस्ट मैच के दौरान किसी खिलाड़ी को कोरोना वायरस होता है तो उसकी जगह किसी दूसरे खिलाड़ी को शामिल किया जा सकता है। वैसे ही जैसे किसी खिलाड़ी को चोट लगने पर दूसरा खिलाड़ी खेलता है। पीड़ित खिलाड़ी की जगह कौन खिलाड़ी खेलेगा, इसका फैसला मैच रेफरी को करना होगा हालांकि यह नियम केवल टेस्ट मैचों में ही लागू होगा।