मुंबई। टेलीविजन अभिनेत्री सुबुही जोशी का कहना है कि एक्टर केवल पार्टी करते हैं और अच्छा समय बिताते हैं, यह सोच गलत है। इसके विपरीत, इस पेशे के कई लोग अकेले हैं और इसका असर मेंटल हेल्थ पर पड़ता है। उन्होंने कहा, मैंने एक ऐसा चरण देखा है, जहां मैं मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं थी और जिसने मेरे शारीरिक स्वास्थ्य, मेरी हर चीज को प्रभावित किया। इसलिए जब आप मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं होते तो मेरा मानना है कि आप काम नहीं कर सकते। 'ये उन दिनों की बात है' मैं अपनी भूमिका के लिए जानी जाने वाली अभिनेत्री का मानना है कि ग्लैमर उद्योग में अवसाद और चिंता बहुत होती है।
   लोगों को लगता है कि आपके पास बहुत सारे दोस्त हैं, आप बहुत पार्टी करते हैं लेकिन वास्तविकता यह है कि लोग बहुत अकेले हैं। आपके पास बात करने के लिए बहुत सारे लोग नहीं हैं, लोगों के पास इसके लिए भी समय नहीं है। लोग इसके बारे में बात नहीं करना चाहते हैं। यह एक बहुत ही अनिश्चित क्षेत्र है जैसे कि हमारे पास निश्चित काम नहीं है, आज आपके पास एक बड़ा शो है, कल आपके पास कुछ भी नहीं होगा। आज आप एक स्टार हैं कल आप कुछ भी नहीं होंगे। सुबुही कहती हैं, मैं बहुत सारी समस्याओं से गुजरी हूं, लेकिन आत्महत्या इसका समाधान नहीं है। यह बहुत दुख की बात लोग ऐसा कदम उठाते हैं। मुझे लगता है कि जब भी आप लो महसूस करते हैं या आत्महत्या का विचार आता है तो किसी से बात करना चाहिए।