कानपुर. आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार चल रहे विकास दुबे (History Sheeter Vikas Dubey) की गिरफ़्तारी के लिए पुलिस (Police), क्राइम ब्रांच (Crime Branch) और एसटीएफ (STF) की टीम जगह-जगह ख़ाक छान रही है, लेकिन दुर्दांत अपराधी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं. इस बीच पुलिस और एसटीएफ लगातार उसके करीबियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. इसी क्रम में शनिवार को लावारिश मिली तीन लग्जरी गाड़ियों के मामले उठाए गए जय बाजपेई (Jai Bajpayi) का विकास दुबे से कनेक्शन मिला है.

पूछताछ में पता चला है कि जय बाजपेई विकास दुबे का खजांची था और उसी के पैसे से लोगों को बीसी खिलवाता था. इतना ही नहीं जय बाजपेई की लग्जरी गाड़ियों से ही विकास दुबे सफ़र करता था. कानपुर के विकरू कांड के बाद विकास दुबे ने अपने मोबाइल से डाटा डिलीट कर दिया था. लेकिन एक ऑडी, फोर्च्युनर और एक वर्ना कार लावारिस हालत में मिलने के बाद खुलासा हुआ कि गाड़ियां जय बाजपेई की है और उसका विकास दुबे से करीबी संबंध है. फिलाहल एसटीएफ लखनऊ लाकर उससे पूछताछ कर रही है.

कांग्रेस का ट्वीट कर सरकार पर निशाना
अचानक से करोड़पति बने जय बाजपेई पर पुलिस का शिकंजा कसता नजर आ रहा है. इस बीच जय बाजपेई के लिंक कई बीजेपी नेता और ब्यूरोक्रेट्स से भी सामने आए हैं. एक तस्वीर में वे यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी के साथ दिख रहा है. इस तस्वीर पर ओंग्रेस ने ट्वीट कर सवाल खड़ा किया है और सरकार से पूछा है कि कई समाचार चैनलों पर खबरें आ रही हैं कि विकास दुबे का सबसे ख़ास सहयोगी जय बाजपेई था. जय बाजपेई विकास की हर तरीके से मदद करता था. लेकिन ये जय बाजपेई के साथ यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी क्या कर रहे हैं? लिंक्स की जांच होनी जरूरी है.