नोएडा । गौतमबुद्धनगर जिले की सड़कों पर लगातार बढ़ रहे हादसों से चिंतित प्रशासन ने एक जून से ‘हेलमेट नहीं तो पेट्रोल नहीं’ नियम लागू कर दिया है। निगरानी के अभाव में पेट्रोल पंपों के बाहर एक दूसरे से हेलमेट मांगने का खेल जमकर चला। पेट्रोल न मिलने पर कई जगह पंप कर्मचारियों के साथ झगड़े की नौबत भी आ गई। कुछ पेट्रोल पंपों पर ट्रैफिक पुलिस ने चालान भी काटे है। पंप संचालकों को बिना हेलमेट दुपहिया चालकों को पेट्रोल न देने के सख्त निर्देश हैं लेकिन पहले ही दिन कई पंप संचालक लापरवाही बरतते दिखे। सेक्टर-62, सेक्टर-63, सेक्टर-54 ग्रीन बेल्ट स्थित पेट्रोल पंप के बाहर दुपहिया चालक हेलमेट का जुगाड़ कर रहे थे। पंप के बाहर खड़े होकर दूसरे दुपहिया चालकों से थोड़ी देर के लिए हेलमेट उधार मांगकर लोगों ने काम चलाया। पंप कर्मियों के सामने यह खेल खुलेआम चलता रहा है। हालांकि, जिला प्रशासन की सख्ती को लेकर लोगों में खासी जागरूकता भी देखी गई लेकिन हेलमेट लगाने में शर्म महसूस करने वाले कई लापरवाह दुपहिया चालक पेट्रोल पंपों पर दबंगई दिखाते मिले। सेक्टर-62 पेट्रोल पंप पर ऐसा ही नजारा दिखा। बिना हेलमेट पेट्रोल डालने से पंप कर्मी ने इनकार कर दिया तो वाहन चालक झगड़ने को तैयार हो गए। ट्रैफिक पुलिस ने सुबह से ही कई पेट्रोल पंपों के बाहर अपनी टीम तैनात की थी। बिना हेलमेट पहुंचने वाले लोगों को रोककर उनके चालान काटे। ट्रैफिक इंस्पेक्टर अनिल पांडेय ने बताया कि सेक्टर-14 पेट्रोल पंप के बाहर सुबह 10 बजे तक 31 लोगों के चालान काट दिए गए। इस दौरान लोगों को हेलमेट लगाने के लिए जागरूक भी किया गया। नोएडा-ग्रेटर नोएडा यानी पूरे गौतमबुद्ध नगर जिले में 'नो हेलमेट, नो फ्यूल योजना' की शुरुआत शनिवार को हुई। जिलाधिकारी ने वाहन चालकों एवं पेट्रोल पंपों को निर्देश जारी किए थे। डीएम बी एन सिंह ने कहा कि जिले में दोपहिया वाहन चालकों के लिए हेलमेट का प्रयोग सुनिश्चित करने के लिए यह योजना शुरू की गई है। हेलमेट नहीं लगाने वालों को पंपों पर पेट्रोल नहीं दिया जाएगा। नियम का उल्लंघन करने पर प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जाएगी।