चूरू. नेशनल हाइवे-52 पर आमने-सामने से हुई ट्रक और टैंकर की भिड़ंत में बाद आग लग गई, जिससे एक ट्रक में सवार दो लोग जिंदा जल गए. इस हाउसे में हरियाणा के गुहाडा के कतारा सिंह व नपे सिंह की मौत हो गई. हादसे में दूसरे ट्रक के लोगों की मौत की भी आशंका है, करीब 4 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका. इस भीषण दुर्घटना के बाद नेशनल हाइवे पर जाम लग गया, जिससे रात को दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गईं.

जानकारी के मुताबिक, चूरू के गांव सिरसला के पास NH 52 पर रिफाइंड तेल से भरे टैंकर और ट्रक की भिड़ंत के बाद दोनों वाहनों में आग लग गई. हादसे में दो लोगों के जिंदा जल जाने की दुधवाखारा पुलिस ने पुष्टि की है. टैंकर में रिफाइंड तेल होने के कारण देखते ही देखते दोनो ट्रक आग के गोले में तब्दील हो गए. आग की भीषणता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है टैंकर के कैबिन में मौजूद ड्राइवर और परिचालक को नीचे उतरने का मौका ही नहीं मिला और दोनो कैबिन के अंदर ही जिंदा जल गए.

4 घंटे की आग में सब जलकर खाक 

आग लगने के बाद दोनो ट्रकों से हुए धमाके और उठते धुंए को कई किलोमीटर दूर से देखा जा सकता था. दुधवाखारा पुलिस ने मृतकों की शिनाख्त कर ली है. प्रारंभिक रूप से हरियाणा के गुहाडा गांव के कतारा सिंह और नपे सिंह के रूप में हुई है, हालांकि 4 घंटे तक लगी भीषण आग के बाद सब कुछ जलकर खाक हो चुका था. दूसरे ट्रक में पुलिस को किसी व्यक्ति के अवशेष तक नहीं मिले हैं, पुलिस ट्रक की डिटेल के आधार पर आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है. इस हादसे में अन्य लोगों के मौत की भी आशंका जताई जा रही है.


देर रात जेसीबी से रास्ता साफ किया तब हाइवे खुला 

यह भीषण सड़क हादसा शुक्रवार शाम 7 बजे के करीब हुआ, जिसके बाद मौके पर पहुंची दुधवाखारा पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से आग पर काबू के प्रयास किये लेकिन ट्रक से धमाके होने के कारण कोई ट्रक के पास तक नहीं जा पाया. सूचना के बाद सिरसला गांव बस स्टैंड पहुंची चूरू और राजगढ़ की दो दमकलों ने करीब 11 बजे तक आग पर पूरी तरह काबू पाया, लेकिन तब तक सब कुछ जलकर खाक हो चुका था. इस दौरान एनएच 52 जाम हो गया और वाहनों की लम्बी कतारें लग गईं, हालांकि पुलिस ने रास्ता डायवर्ट भी किया लेकिन देर रात 1:30 बजे तक जेसीबी, क्रेन आदि साधनों से जले हुए वाहनों के मलबे को हटाकर एनएच 52 पर वाहनों का आवागमन शुरू करवाया जा सका.