रोहतक । कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच देशभर में ऑक्सीजन को लेकर भी हाहाकार मचा हुआ है। दिल्ली में ऑक्सीजनों की किल्लत के बीच आज यानी बुधवार को नई खेप पहुंची है। हालांकि, इस बीच हरियाणा ने दिल्ली पर ऑक्सीजन की लूट का आरोप लगाया है। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा हमारे ऑक्सीजन के एक टैंकर को दिल्ली सरकार ने लूट लिया। साथ ही उन्होंने कहा कि हम पहले अपनी जरूरत पूरी करेंगे तभी दूसरों को ऑक्सीजन सप्लाई करेंगे। मंत्री अनिल विज ने कहा, 'हमें अपना ऑक्सीजन दिल्ली में देने के लिए मजबूर किया जा रहा है। पहले हम अपनी आवश्यकताओं को पूरा करेंगे, फिर दूसरों को देंगे। कल हमारे एक ओ-2 टैंकर (ऑक्सीजन टैंकर) को दिल्ली सरकार ने लूट लिया, जो फरीदाबाद जा रहा था। अब से मैंने सभी टैंकरों के लिए पुलिस सुरक्षा का आदेश दिया है। बता दें कि दिल्ली में ऑक्सीजन को लेकर मची हाहाकार उस वक्त शांत हुई, जब आज सुबह दिल्ली के कुछ बड़े सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को ऑक्सीजन की नयी खेप मिली। अधिकारियों के मुताबिक, समय रहते ऑक्सीजन की आपूर्ति होने से बड़ा संकट टल गया। गंगाराम अस्पताल को निजी विक्रेताओं से तड़के तीन बजे से पहले 4,500 घन मीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। 
अस्पताल को बाद में एक अन्य विक्रेता से 6,000 घन मीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। यह भंडार बृहस्पतिवार सुबह नौ बजे तक चलने की संभावना है। अस्पताल में सभी 132 आईसीयू बेड पर मरीज हैं। गैर आईसीयू के 487 बेड में से सिर्फ तीन खाली हैं। गुरु तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि एक कंपनी से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक देर रात करीब डेढ़ बजे उनके पास पहुंचा। लोकनायक जयप्रकाश नारायण (एलएनजेपी) अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ सुरेश कुमार ने कहा कि एक विक्रेता से भेजा गया ऑक्सीजन का ट्रक तड़के तीन बजे अस्पताल पहुंचा। एलएनजेपी और जीटीबी में 400-400 बेड हैं और सभी पर मरीज हैं। आंबेडकर अस्पताल को सुबह पांच बजे ऑक्सीजन की ताजा आपूर्ति हुई। अधिकारियों का कहना है कि यह आपूर्ति 24 घंटे तक चलेगी।