नई दिल्ली ,होली और सियासत दोनों का चोली-दामन का साथ रहा है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन लोग पुराने सियासी गिले-शिकवे को पीछे छोड़ एक-दूसरे को गुलाल लगाकर खुशियां बांटते हैं। जब नेताओं की होली की बात हो तो देश के भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और आरजेडी सुप्रीमो लाली प्रसाद यादव की होली जेहन में आती है।

उत्तर भारत में इस त्योहार को राजनेताओं की होली लंबे अरसे से खास रही है। भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से लेकर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, हर दल के नेता होली के रंग में सराबोर दिखते रहे हैं।

अटल जी की होली
अटल बिहारी वाजपेयी पहले ऐसे नेता हैं, जिन्होंने होली को राजनीतिक रंग दिया। 2004 के लोकसभा चुनाव से पहले होली के दौरान वाजपेयी ने कहा था कि जनता उन्हें दोबारा वोट देकर जीता रही है। उनकी सरकार सत्ता में वापसी कर रही है। होली के रंग में सराबोर वाजपेयी ने लोगों से अपील की थी कि सभी मतभेदों को भुलाकर होली खेलें और एक नई शुरुआत करें।
 
लालू यादव की कुर्ता फाड़  होली
सत्ता के गलियारों में एक अन्य नेता जिनकी होली को खूब याद रखा जा रहा है वो हैं बिहार लालू यादव। आरजेडी सुप्रीमो की कुर्ता फाड़ होली 1997 और 2000 के बीच भी खूब शानदार रही। हालत ये थी कि विपक्षी दलों के नेता भी इस होली समारोह में हिस्सा लेने के लिए आते थे।

हालांकि, साल 2017 में होली का रंग लालू परिवार के लिए फीका दिखा और उसके बाद 2018 और 2019 में इस परिवार ने होली समारोह का आयोजन नहीं करने का फैसला किया। परिवार ने 2018 में लालू यादव की सजा का हवाला दिया, जबकि 2019 में पुलवामा में हुए सीआरपीएफ काफिले पर हमले के चलते ऐसे समारोह से दूर रहने रहने का फैसला किया।
 
सोनिया और राहुल की होली
सोनिया गांधी और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की शीला दीक्षित जैसी सीनियर कांग्रेसी नेता के साथ एआईसीसी में होली खेलने की तस्वीर भी सुर्खियां बटोरती थी। अन्य पार्टियों की तरह देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस भी होली जमकर मनाती है।
 
हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह होली समारोह के शानदार आयोजन के लिए जाने जाते हैं।
 
शिवराज सिंह चौहान के लिए होली का मतलब कई रंग था। इस मौके पर वह मिठाईयां बांटने से लेकर ढोल बजाने तक पूरी सिद्दत से इस त्योहार में रमे दिखते हैं।
 
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी रंगों से नहीं, लेकिन अलग तरीके से होली का त्योहार मनाती है। पिछले साल वे कोलकाता में मारवाड़ी समुदाय की तरफ से आयोजित होली समारोह में हिस्सा लिया था।